सिर्फ एक मौका, गलती का मतलब मौत….

24

देश की प्रथम महिला फाइटर मोहना सिंह,अवनी चतुर्वेदी और भावना कांत अपने सपने के लिए जी जान लगा रही है। तीनो ही महिला पायलट एयरफोर्स एकेडमी डुंडीगल में ट्रेनिंग ले रही है। जानकारी के अनुसार तीनो महिला फाइटर पायलट को 18 जून से कमान सोपी जाएगी। तीनो का कहना है अब कोई गलती समझो मोत ही है। तीनो महिलाओ के परिजनों को भी इनकी टेनिंग की जानकारी नहीं दी गई। तीनो ही महिला फाइटर ने एकेडमी में फ्लाइंग स्ट्रीम टेस्ट को पास किया। इस टेस्ट में फेल होने  वाला व्यक्ति भविष्य में कभी भी परीक्षा नहीं दे सकता।

तीनो महिला फाइटर पायलट का पल पल निर्धारित किया हुआ है।  जिसके अंतर्गत उन्हें एकेडमी के सभी चेलेंज पर खरा उतरना  है। तीनो ही महिलाये सुबह पौने चार बजे के दरमियान आसमान में अपनी उड़न भरती है। तीनो ही महिलाओ को प्रतिदिन  फिजिकल टेस्ट के साथ ही क्लास रूम भी अटेंड करनी पड़ती है। इस ट्रेनिंग के चार स्टेज है जिसमे से एक स्टेज तो पूरी हो चुकी है। एयरफोर्स ने तीनो महिलाओ को खास हिदायद दी है की वह भविष्य के चार वर्ष तक भूलकर भी माँ बनने का सपना न देखे।

Comments are closed.