इंडिया मे 60,000 गांवो की महिलाओ का हमसफर बन चुका है इंटरनेट

जब से हमारे देश मे इंटरनेट आया है जब से ही इंटरनेट ने अपने जगह इस तरह से बना ली है की फिर चाहे वो पढ़ा लिखा हो या अनपढ़ हो बच्चा हो या कोई बुजुर्ग हो या फिर कोई लड़का हो यह कोई लड़की हो हर कोई आज कल इंटरनेट चलाना चाहता है और ऐसी तरह से इंटरनेट ने आज हर देश मे अपनी जगह बना ली है और इस प्रकार से भारत देश के कई ग्रामीण गांवो की महिलाओ ने भी इंटरनेट के माध्यम से अपने बुद्धिमता को बढ़ाते हुए अपने कार्य और पथ के प्रति आगे बढ़ रही है. यह ही नहीं अपितु ग्रामीण देश मे डिजिटल वर्ल्ड मे परिपूर्ण लिंग-भेद को समाप्त करने के लिए इंटरनेट साथी योजना को भी आरंभ किया गया है।

गूगल के अनुरूप भारत की सभी इंटरनेट की आबादी मे केवल 30% ही महिलाओ की सहभागित है जब की पूरे 70% पुरुष है और इस मे किसी गाँव की बात करे तो वह की परिस्थिति तो ओर भी बिगड़ी हुए है क्योकि वहा पर यदि इंटरनेट चलाने वाले लोग 10 है तो जिसमे से महिला केवल 1 ही है और इस लिए भारत मे डिजिटल वर्ल्ड मे इंटरनेट साथी नामक योजना की शुरुवात की गई है

इस योजना के अंतर्गत महिलाओ को इंटरनेट की सारी जानकारी देना है साथी ही स्मार्ट फोन और टेबलेट कैसे चलाते है यह सब सिखाया जाता है फिर बाद मे जो महिलाए सीख जाती है वह गाँव की दूसरी महिलाओ को भी सिखाती है इंटरनेट के जरिए उन महिलाओ को कूकींग, हेल्थ जैसी सभी प्रकार की जानकारियों से जागरूक कराते है और इस तरह से अब तक कम से कम 60,000 गांव को इसका भागीदार बनाया जा चुका है गूगल ने ट्रस्ट के साथ मिलकर वेस्ट बंगाल के गांव मे ये योजना शुरू की थी.

अब यह गूगल की योजना अपनी पहचान बनाने मे कामियाब रहा है कई गांवो मे कुछ महिलाओ से जब इस इंटरनेट तकनीकी की बात की गई तो उन्होने कहा की यह टेक्नोलोजों को सीख कर बहुत ही अच्छा लग रहा है इस के कारण अब ये महिलाए अपने आप को काफी प्रभावशाली योग्य समझती है इसी वजह से आज भारत देश काफी आगे बढ़ चुका है ये प्रगति लगातार बड़ती ही जा रही है

Leave A Reply

Your email address will not be published.