हिंदी भाषा में देश की मिट्टी की खुशबु महकती है

38

देवभाषा संस्कृत से बनी हमारी मातृभाषा हिंदी को भारत में सबसे ज्यादा बोला जाता है। देवभाषा संस्कृत के अत्यधिक कठिन शब्द होने से मातृभाषा हिंदी का निर्माण हुआ। हिंदुस्तान की मातृभाषा हिंदी विश्व की सबसे अधिक बोले जाने वाली भाषा है। हिंदी ही हिंदुस्तान की शान है। हिंदी भाषा में हिंदुस्तान की मिटटी की खुशबु महकती है। आज हम आपको हिंदी भाषा के ऐसे ही जाने अनजाने राज बताएँगे जिनसे आप अभी तक अंजान है।

  • विश्व में करीब 50 करोड़ लोग हिंदी भाषा को बोलते है
  • विश्व में सबसे ज्यादा हिंदी भाषा बोली जाती है।
  • संस्कृत के शब्दों के कठिन होने से हिंदी भाषा का जन्म हुआ।
  • हिंदी भाषा देवनागरी लिपि ( देवो के यहाँ लिखी जाने वाली भाषा ) में लिखा जाता है।
  • एक तरह से हिंदी और उर्दू एक ही भाषा है सिर्फ फर्क इतना है की हिंदी को देवनागरी लिपि में व्यक्त किया जाता है। जबकि उर्दू को पर्सियन लिपि में।interesting-fact-of-hindi (2)
  • हिंदी भाषा में उर्दू के शब्दों का अत्यधिक प्रयोग किया जाता है।
  • हिंदी भाषा को कोई भी वयक्ति बड़ी आसानी के साथ सिख सकता है जबकि अंग्रेजी सिखने में अत्यधिक समय लगता है क्यों की अंग्रेजी में कैपिटल और स्माल की वजह से लिखते कुछ और है कहा कुछ और जाता है।
  • 11 स्वर और 33 व्यंजन से हिंदी भाषा का उच्चारण होता है।
  • 14 सितबंर, 1949 को हिन्दी की देवनागरी लिपि को पूर्ण रूप से भारतीय संविधान मान्यता दी गई थी।
  • हिन्दी की देवनागरी लिपि के मान्यता के दिन ही हिन्दी दिवस मनाया जाता है।
  • वर्ष 1981 में बिहार ने उर्दू का त्याग कर हिंदी भाषा को अपना अधिकारिक बनाया था।
  • हिंदी भाषा में करीब 70 हजार शब्दों का समावेश है, सभी शब्दों का अलग अलग मतलब होता है।
  • अंग्रेजी भाषा में कई शब्द हिंदी के ही है।
  • हिंदी भाषा की करीब 48 उपभाषायें है जिनमे बाटे तो समान होती है लेकिन उसका उच्चारण थोड़ा अलग होता है।
  • लल्लूलाल द्वारा रचित प्रेम सागर किताब को हिंदी भाषा की सर्वप्रथम किताब माना जाता है।
  • हिंदी साहित्य के सुप्रसिद्ध लेखक मुंशी प्रेमचंद है।

Comments are closed.