क्या आप भी महीना आने से पहले सैलरी का इन्तजार करने लगते है

0
क्या आप भी महीना आने से पहले सैलरी का इन्तजार करने लगते है

व्यक्ति अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिये दिन रात एक कर देता है लेकिन इसके बावजूद वह अपने परिवार के भविष्य के लिए अपनी सैलरी का एक छोटा हिस्सा भी बचा नहीं पता है. क्यों की उस पर परिवार की अनगिनत जिम्मेदारियों का बोझ रहता है जिनको पूरा करते करते वह चाहते हुए भी बचत कर नहीं पाता है. परिवार की जिम्मेदारियों को पूरा करने के लिए कई व्यक्ति की सैलरी महीना आने से पूर्व ही समाप्त हो जाती है.

इतनी महगाई में व्यक्ति उज्जवल भविष्य के लिए अपनी तनखाह का कुछ हिस्सा बचा नहीं पाता है. जिसका उसे अफ़सोस रहता है. कई व्यक्तियों के परिवार के खर्चे अधिक है जबकि उनकी सैलरी खर्चो की आधी होती है ऐसे में वह व्यक्ति किस तरह अपने परिवार को चलाता है वह स्वयं ही जानता है. भारत देश में अपने भविष्य के लिए निवेश करने वालो के आंकड़े इस तरह है जिसे देख कर आप दंग रह जायेंगे.

रोजमर्रा में व्यस्त जीवन :

व्यक्ति अपने जीवन की नियमित गतिविधियों को पूरा करने के लिए अपनी सम्पूर्ण सैलरी ख़त्म कर देते है. जानकारी के अनुसार ज्ञात हुआ है की दस परिवार में से नो परिवार ऐसे है जो अपनी पूरी सैलरी अपने नियमित कार्य को पूरा करने में ही खत्म कर देते है. जानिए क्या है NEFT, RTGS, IMPS नेट बैंकिंग

लोन का बोझ :

हम भारतीयों में एक बात तो अच्छी है हम कभी भी किसी के एहसान तले दबना नहीं चाहते है इसलिए हम किराये के घर में रहना पसंद करते है लेकिन घर बनाने के लिए हम होम लोन नहीं लेते है. हम बिना दबाव के जीना पसंद करते है. इसलिए 10 में से करीब 7 लोग बिना लोन लिए अपना जीवन व्यतीत करते है. आपकी कमाई है ढाई लाख से ज्यादा, नहीं आएगा नोटिस करे यह काम

महीने का अंत, जेब तंग :

जानकारी के अनुसार भारत देश में करीब 47 प्रतिशत व्यक्ति महीने की अंतिम दिनों में अपनी तनख्वाह में से 1-29 फीसदी ही बचा पाते है. की व्यक्ति तो महीना आने से पहले ही अपनी तनख्वाह का इन्तजार करने लग जाते है.

निवेश के लिए पैसा नहीं :

की व्यक्ति बाजार में या अन्य स्थानों पर निवेश करना चाहते है लेकिन बचत नहीं होने के कारण वह निवेश नहीं कर पाते है. कहा जाता है की दस में से आठ परिवार की स्थिति इतनी खराब है की वह निवेश तो दूर की बात बल्कि अपने परिवार के लिए किसी तरह की कोई बचत भी नहीं कर पाते है. चवनिया बचाएं, (रूपये) अपनी परवाह खुद कर लेगे…

बैंक का सहारा :

अधितर देखा जाता है की जो व्यक्ति अपने परिवार के उज्वल भविष्य के लिए पैसा जमा करने के लिए आज भी बैंक का सहारा लेता है. उसे वह आसान और सुरक्षित मानते है. सिर्फ 99 रुपए में कमाए लाखो, करे यह काम

उज्जवल भविष्य की चिंता :

आपको जानकर हैरानी होगी की व्यक्ति अपने उज्वल भविष्य के साथ ही इसलिए भी बचत करते है क्यों की उन्हें उनकी नोकरी के छूटने का भय बना रहता है.गरीबी, अपशगुन, परेशानी जानिए झाड़ू से जुड़ी ज़रूरी बातें