13 अप्रैल 1919 का दिन भारत कभी नहीं भूल सकता। आज ही के दिन 1919 को जलियांवाला बाग में जर्नल डायर के आदेश पर कई हिदुओ को गोलोयो से भून दिया गया था। कहा जाता है की जर्नल डायर अपने पचास बन्दुक धारी आफिसर के साथ जलियावाला बाग़ के मुख्य द्वार से आये और बिना सुचना के लगातार दस मिनट तक अंधाधुन फायरिंग करते है। जलियावाला बाग़ में प्रवेश और निकास के लिए सिर्फ एक ही द्वार था।जिस कारण हिन्दू अपनी जान बचाने के लिए कुएं में कूद गए थे।

जलियावाला बाग़ अमृतसर में स्थित है, जलियावाला बाग़ एक बगीचा है जो स्वर्ण मंदिर के पास स्थित है। जिस समय जर्नल डायर जलियावाला बाग़ में अपने साथियो के दाखिल हुआ था तब बाग़ में सिख बैसाखी पर्व के विरोध के लिए जमा हुए थे तभी जर्नल ने अपने साथियो को गोली मारने का आदेश दे दिया। अंग्रेजी सेना ने निहत्थे बच्चे बड़े बूढ़े और महिलाओं पर 1650 राउंड की फायरिंग करते रहे।

जलियावाला बाग़ हत्याकांड में 1650 राउंड की फायरिंग की गई थी।
जलियावाला बाग़ अमृतसर में स्थित है।
जलियावाला भाग की दीवारों पर आज भी गोलियों के निशान देखे जा सकते है।
जलियावाला भाग हत्याकांड में सरकारी आंकड़ों के अनुसार 379 व्यक्तियों की जान गई थी जबकि जानकारी के अनुसार हत्याकांड में एक हजार से ज्यादा लोगो ने अपनी जान गवाई थी।
कई लोग जान बचाने के लिए कुएं में कूद गए थे लेकिन उस कुएं से 120 लोगो के शव बाहर निकाले गए थे।

जलियावाला भाग हत्याकांड के बाद रविंद्र नाथ टैगोर ने अपनी उपाधि को लोटा दिया था।
जलियावाला भाग हत्याकांड की विशेष जाँच के लिए हंटर कमीशन की स्थापना की गई थी।
जलियावाला भाग के बाद ब्रिगेडियर जनरल रेजिनाल्ड एडवार्ड हैरी डायर को उनके पद से निष्काषित कर दिया था।
13 मार्च 1940 को ब्रिगेडियर जनरल रेजिनाल्ड एडवार्ड हैरी डायर की सरदार ऊधम सिंह ने हत्या कर दी थी।
जनरल डायर की हत्या के आरोप में 31 जुलाई 1940 को सरदार ऊधम सिंह को फांसी पर चढ़ा दिया था।

जलियावाला बाग़ हत्याकांड के समय भगत सिंह की उम्र महज 12 वर्ष थी लेकिन फिर भी हत्याकांड ने भगत सिंह के जीवन पर गहरा प्रभाव छोड़ा।
कहा जाता है की जब भगत सिंह को जलियावाला बाग़ हत्याकांड की सुचना मिली थी तो वह 12 मील दूर अपने स्कूल से पैदल चलकर जलियावाला बाग़ गए थे।
जलियावाला बाग़ की याद में 1920 में कांग्रेस पार्टी ने एक ट्रस्ट की स्थापना की थी।
राजेंद्र प्रसाद ने उस ट्रस्ट का उद्घाटन किया था।

- - Advertisement - -