भारत देश में मुफ्तखोरी का मायाजाल है। हर कोई व्यक्ति सिर्फ यही देखता है की मुफ्त की चीजे कहा मिलती है। जिसकी सहायता से वह उसका उपयोग कर सके। लेकिन कई बार यह मुफ्त की चीजो का प्रयोग आप पर भारी पड़ जाता है। कुछ ऐसा ही आपके साथ फ्री का वाई – फाई यूज करने पर होता। अधिकतर देखा जाता है की व्यक्ति फ्री वाई – फाई चलाने के लिए किसी भी सार्वजानिक स्थानो पर चले जाते है। और बेखौफ इंटरनेट का उपयोग करते है।

पब्लिक प्लेस का वाई – फाई चलाना कितना खतरनाक होता है इस बात का शायद आपको अंदाजा भी नहीं होता। कई व्यक्ति अपने पडोसी का या काफी शॉप का वाई -फाई इस्तेमाल करते है। लेकिन न चाहते हुए भी हम अपनी जारी जानकारी किसी हैकर्स तक आसानी से पंहुचा देते है। जिसकी सहायता से वह हमारे बैंक की सारी डिटेल निकाल लेता है साथ ही हमारा अकाउंट भी हैक कर लेते है।
 
क्यों न चलाये फ्री का वाई – फाई :- 
कई व्यक्ति कहते है की जब हमें किसी चीज की सुविधा मिल रही है तो हम उसका उपयोग क्यों न करे?  जब भी किसी व्यक्ति को यूट्यूब से नए वीडियो या कोई फिल्म डाउनलोडिंग करनी होती है तो वह पब्लिक प्लेस के वाई -फाई का प्रयोग करता है। यही आपकी सबसे बड़ी गलती होती है,पब्लिक प्लेस का वाई -फाई  यूज करने से आपके अकाउंट की प्राइवेसी सार्वजानिक हो जाती है।
पब्लिक प्लेस में जब आप वाई -फाई का प्रयोग करते है तो कितने हैकर्स आपके अकाउंट पर नजर जमाये रखते है।जिसकी सहायता से वह आपका अकाउंट हैक कर ले और बैंक की सारी जानकारी हासिल कर सके। जब आप पब्लिक प्लेस में कोई एप इंस्टॉल करते है तो आपकी सारी जानकारी सार्वजानिक हो जाती है।
 किस तरह हो सुरक्षा ? 
जब भी आप अपना वाई – फाई का इस्तेमाल करते है तब आपसे वाई -फाई का पासवर्ड मांगा जाता है। इसका मतलब है की आपकी सारी जानकारी आप तक और आपके वाई – फाई तक ही सिमित  रहती है। लेकिन पब्लिक प्लेस के वाई -फाई का प्रयोग करते हुए आप को पासवर्ड की आवश्यकता नहीं होती आप इसे डायरेक्ट कनेट कर लेते है। जिससे आपकी सारी पर्सनल जानकारी सार्वजानिक हो जाती है।  
वी.पी.एन  है सुरक्षित:- 
वी.पी.एन का फूल फोम वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क कहलाता है। जिसकी सहायता से आप अपनी आईडी बिना शो किये इंटरनेट का प्रयोग कर सकते है।