क्या आप सोशल नेटर्वकिंग साइट्स का प्रयोग करते है? अगर हा तो यह जानकारी आपके लिए बहोत जरुरी है।  सोशल नेट्वर्किंग साइट्स अपनों को अपनों से मिलाने का एक जरिया है किन्तु इसका गलत उपयोग भी हो सकता है। कई लोगो का मानना है की सोशल नेटवर्किंग की साइट्स जैसे फेसबुक, ट्विटर,याहू आदि साइट्स गोपनीय रहती है इस पर हम कुछ भी अपलोड कर सकते है और जिस व्यक्ति को दिखाना है सिर्फ उसी व्यक्ति को दिखेगी। यह सोच आपकी बिलकुल गलत है.

सोशल नेटवर्किंग की साइट्स एक तरह से खुली किताब है। जिसे हर कोई पड़ सकता है। अगर आपकी सोच है की मेरे द्वारा की गई पोस्ट केवल मेरे मित्र तक ही सिमित है तो यह आपकी सबसे बड़ी गलती  है। उस पोस्ट को आपके मित्र ही नहीं बल्कि अन्य कोई भी देखते है। इसलिए इस तरह की साइट्स पर अकाउंट बनाते समय इन बातो का ध्यान रखना अति आवश्यक है।
सोशल नेट्वर्किंग साइट्स पर अकाउंट बनाते समय ध्यान रखे यह बाते.
 
निजी जानकारी :-
सोशल साइट्स पर अपनी प्रोफाइल बनाते समय किसी भी प्रकार की निजी जानकारी को प्रदर्शित नहीं करना चाहिए। अपनी सभी जानकारियो को गुप्त रखे।
 
जन्मतिथि, जन्मस्थान :-
अधिकतर देखा जाता है की हम अपना जन्म स्थान एवं जन्म तारीख को सार्वजनिक कर देते है। जो हमारी सबसे बड़ी भूल होती है। विशेषयज्ञो का मानना है की अपने कहते के गुप्त स्थान पर हम अधिकतर जन्मदिन की तारीख या अपना जन्म स्थान ही लिखते है। जिस कारन हम  ओनलाइन चोरी के शिकार हो सकते है।
माँ का नाम :-  
नया अकाउंट बनाते समय हमें अपनें परिवार की जानकारी देनी होती है। जिसमे भूल कर भी अपनी माँ का नाम नहीं लिखे। कई बार कुछ गुप्त प्रश्नो में इस तरह का प्रश्न भी आ सकता है।
वास्तविक पता :- 
फेसबुक पर अपना निजी पता कभी भी सार्वजानिक नहीं करना चाहिए। अन्यथा आप मुसीबत में पड़ सकते है।
स्वयं की जानकारी :- 
अधिकतर देखा जाता है की कई व्यक्ति ऐसे होते है की वह अपनी पूरी दिन चर्या फेसबुक पर अपडेट करते रहते है। लेकिन यह गलत होता है फेसबुक पर अज्ञातवश भी अपनी गतिविधियों के बारे में जानकारी पोडट नहीं करनी चाहिए। आपके हॉलिडे की जानकारी फेसबुक पर न बताये।
अपशब्दों का प्रयोग :-  
भूल कर भी आप अपने किसी मित्र की फोटो को  पोस्ट न करे. और न ही फेसबुक पर किसी की पोस्ट पर अपशब्दों का प्रयोग करे यह सब कानूनन अपराध है।
निजी बाते  न करे :- 
अगर आप किसी मित्र से निजी बात करना चाहते है तो भूल कर भी फेसबुक पर किसी भी बारे में चर्चा न करे।  यह सब सार्वजानिक भी हो सकता है।
ये कुछ ऐसी बातें हैं जो आम तौर पर हमारे ध्यान से बाहर चली जाती है और इससे हमारी गोपनियता भंग हो सकती है. ध्यान रखिए सोश्यल नेटवर्किंग साइटें अपने मित्रों और परिवार के सदस्यों के साथ सम्पर्क में रहने का अच्छा माध्यम है. परंतु वह गुप्त नही है.