सेक्स के लिए मिलती है छुट्टी, अजीब है रूस के ये नियम

रूस की चर्चा वेसे तो आये दिन किसी न किसी कारण होती रहती है फिर चाहे वह बात अमेरिका से किसी बात पर बहस हो या फिर अन्य कारण से रूस की चर्चा होती रहती है. लेकिन आज हम आपको रूस से जुड़े कुछ ऐसे तथ्य बताने जा रहे है जिन्हें जानने के बाद आप या तो यकीं नहीं करंगे या फिर अपनी हँसी नहीं रोक पाएंगे.

 गाड़ी चलाई तो होगी सजा :-

रूस में यदि आपने गन्दी गाड़ियों को सड़क पर दौड़ाया तो आपको क्रिमिनल की श्रेणी में गिना जायेगा. क्यों की रूस में गन्दी गाड़ियों को चलाना अपराध माना जाता है.

 सिटी बजाई पैसे उड़े :

कहा जाता है की यदि आपने रूस में घर के अंदर सिटी बजाई तो आपके पैसे खिड़की से उड़ जायेंगे. हालांकि यह सिद्ध नहीं  है लेकिन लोग आज भी इस बात को मानते है.

सेक्स खिलौने से तैराकी :-

रूस में प्रति वर्ष एक आयोजन किया जाता है जिसे  बबल बाबा नाम से जाना जाता है. इस खेल में सभी व्यक्ति  सेक्स टॉयज लेकर तैराकी करते है.

महिला निकली आगे :-

रूस की जनसंख्या लगभग 14 करोड़ 29 लाख से भी अधिक मानी जा रही है. लेकिन  इस संख्या में महिलाओ की संख्या पुरुषों से कही अधिक है.

गे लोगों की बात पहुचायेगी जेल :

रूस में यह नियम है की कोई भी व्यक्ति अपने बच्चो को किसी भी तरह से गे व्यक्तियों की जानकारी नहीं दे सकते है यदि वह ऐसा करते है तो उन्हें जेल की हवा भी खानी पड़ सकती है.

मेट्रो नम्बर वन :-

रूस में प्रतिदिन करीब 70 से 90 लाख से भी अधिक व्यक्ति मेट्रो सिस्टम का उपयोग करते है. यह संख्या इतनी अधिक है की यदि आप लंदन और न्यूयॉर्क के पब्लिक ट्रांसपोर्ट यूजर को मिलाने पर भी कम है.

शराब का सेवन :

रूस में प्रतिवर्ष हर व्यक्ति करीब 4.8 गैलन शराब का सेवन करता है. जबकि इसका आधा हिस्सा भी व्यक्ति के शरीर के लिए हानिकारक होता है.

सेक्स करने के मिलती है छुट्टी :-

आपको जानकार आश्चर्य होगा की रूस में वर्ष के सितंबर माह में 12 तारीख को सभी व्यक्तियों को आफिस से छुट्टी मिलती है ताकि वह अपने पार्टनर के साथ सम्बन्ध बना सके. गिरते बर्थ रेट को देखते हुए यह नियम बनाया गया है.

अमीरो का शहर :-

मास्को में दुनिया के सबसे आमिर व्यक्तियों का ठिकाना है. मास्को में अभी आमिर व्यक्ति ट्रैफिक से बचने के लिए एम्बुलेंस का सहारा लेते है  क्यों की इसे वह पर पूर्ण रूप से सही माना जाता है.

जब जिंदगी में आ जाती है कोई लड़की!

आखिर क्यों ? मर्द अपनी होने वाली बीवी से कहते है ये झूठ जानिए

क्या आप जानते है? दुनिया की ये अजीब बाते

ये 8 योजनायें जो बेटियों भविष्य कर देगी उज्ज्वल

बेटियों के साथ हो रहे अत्याचार और कन्या भ्रूण हत्या जैसी कई सारे अत्याचारों पर रोक लगाने के लिए बेटियों के लिए अच्छे शिक्षा और उनके आने वाले कल के लिए सरकार ने कई सारी ऐसी योजनायें लेकर आये है.जिनसे उनका भविष्य उज्ज्वल बन जायेगा ख़ास कर के उन गरीब घर की बेटियों के लिए जिन्हें ठीक से शिक्षा भी नसीब नहीं हो पाती है .

यह योजनायें उन के लिए बहुत ही लाभ पहुंचाएगी और आज हम उन्हें योजनाओं के बारे में आप से बात करने जा रहे जिन्हें हमारे देश की बेटियों के लिए ही चलाया गया है.

1. धनलक्ष्मी योजना

कन्या भ्रूण हत्या और बेटियों को शिक्षित करने के लिए सरकार ने सेंट्रल गवर्नमेंट की और से धनलक्ष्मी योजना जो सन 2008 में बनाई गई है इस योजना को अब ऑनलाइन भी कर दिया गया है इस योजना के तहद बच्ची का जन्म पंजीकरण और टीकाकरण ,शिक्षा और फिर 18 साल होने के बाद ही बच्ची की शादी पर ही उसे एक लाख रूपए का बीमा दिया जायेगा.

2. कन्या विवाह योजना

इस योजना के तहद में किसी भी गरीबी रेखा के निचे आने वाले परिवार के लड़का-लड़की की शादी के लिए 15००० रूपए दिए जाते है और इस के अलाव 1000 रूपए का चेक और प्रमाण-पत्र इस के साथ ही ग्रहस्थी का पूरा सामान भी दिया जाता है इतना ही नहीं अपितु विधवाओ के लिए 30,000 रूपए भी दिए जाते है. यह योजना देश के सभी राज्यों में है लेकिन इस योजना में जो राशि दी जाती है वह सभी शहर में अलग-अलग होती है.

3. गर्ल प्रोटेक्शन स्कीम

आंध्र प्रदेश में चल रही बेटियों के विकास के लिए इस योजना मे कुछ अलग-अलग कंडीशन को पूरा करने पर 30,000 से लेकर एक लाख रूपए की एक मुश्त राशि दी जाती है और यह योजन यतीम और असमर्थ बच्चियों के लिए बनाई गई है.

4. बेटी है अनमोल

यह योजना हिमाचल सरकार ने बनाई है और यह योजना बहुत ही खास मानी जाती है क्योंकि इस योजना में गरीबी रेखा के निचे आने वाले परिवार की बेटियों को जन्म पर 10,000 रूपए और बैंक में जमा करवाती है फिर 12 वी क्लास तक की शिक्षा के लिए इन बेटियों की 300 से लेकर 12०० रूपए तक की स्कॉलरशिप दी जाती है.

5. लाड़ली बेटी

जन्मू –कश्मीर द्वारा चलाई गई इस योजना के तहद सरकार ने बेटियो का जन्म होने से 14 सालो तक उसके खाते में 1000 रूपए हर महीने जमा करवाएगी फिर 21 साल होने तक उसके 6.5 लाख रूपए की राशि दी जाएगी लेकिन इस योजना का लाभ वही लोग ले सकते है जिनकी वार्षिक आय 75000 रूपए से कम हो

6. मुख्यमंत्री शुभलक्ष्मी योजना

यह योजना राजस्थान में शुरू की गई है इस योजना में बेटियों के जन्म को बढ़ावा देना और मातृ मुत्यु दर को कम करने के लिए शुरू किया गया है. यह 1 अप्रैल या फिर इस के बाद राजकीय एव अधिस्वीकृत चिकित्सा संस्थानों में विषयक करवाना होगा लड़की का नाम होने पर 21०० का चेक दिया जायेगा और बच्ची को सभी आवश्यक टीके लगवाने और उसके एक साल का हो जाने के बाद बच्ची की माँ को 31०० रूपए का सक्क भी दिया जायेगा .

7. सुकन्या समृद्धि योजना

PM मोदी के द्वारा शुरू की गई इस योजना के अंतर्गत स्कूल में पढने वाली 10 वर्ष तक की लडकियों के अकाउंट खुलवाएं जाते है फिर 14 वर्ष होने के बाद 1000 रूपए से लेकर डेढ़ लाख रूपए जमा कर सकते है और अकाउंट खुलने के बाद में बैंक पासबुक मिलती इस में कम से कम 4 साल तक पैसा जमा करना पड़ता.

8. भाग्यश्री योजना

यह योजना महाराष्ट्र के द्वारा शुरू की गई योजना है जिसमे बच्चियों के लिए 8 मार्च 2015 को शुरू की गई है भाग्यश्री योजना की इस योजना में बेटी बचाओं बेटी पढाओ योजना के तहद गरीबी रेखा के नीचे आने वाले परिवार के लिए सरकार ने 21,200 रूपए जमा किए जाते है फिर बच्ची के 18 साल का हो जाने के बाद उसे 1 लाख रूपए दिए जायेगे .

चलते है बचपन की यादगार यादों मे…

बचपन को व्यक्ति अपने अंतिम दिनों तक भूल नहीं सकता। दोस्तों के साथ वह मौज मस्ती, स्कूल न जाने के वह अजीबो गरीब बहाने, नदी में लम्भी छलांग लगाना, खेतो में जा कर मुगफली खाना शायद ही ऐसा कोई व्यक्ति होगा जो बचपन की उन यादो को अपने दिल से निकाल सकता है।

आज का युग बदलाव का दौर है। इस दौर में हर चीज बदल गई है। वीडियो गेम की जगह मोबाईल ने ले ली है, टीवी की जगह एलइडी ने ले लिया है। आज के दौर में वह मौज मस्ती कहा जो  90 के दशक में थी। लेकिन अब तो बच्चो को इंटरनेट से ही फुर्सत नहीं मिलती तो जिंदगी में मौज मस्ती कहा से करे। जिनका जन्म 90 के दशक में या उसके आस पास हुआ होगा उन्होंने इन चीजो का खूब आनंद लिया होगा।  आज हम आपको उन दिनों की याद दिलाते है जो बचपन में हमने की है।  जिसे हम कभी भी भूल नहीं सकते। है

1.जंगल में इस तरह की खोज करना

 2. पापा से मेला देखने जाने की ज़िद 

 3. सभी सिक्को को इकठ्ठा कर जो ख़ुशी मिलती थी, आज हजार रूपये होने पर भी नहीं मिलती 

4. आज के बच्चे इस रिश्ते का कभी पता नहीं लगा पायेगे 

5.जिस बच्चे के पास यह होता था तो सब बच्चे उसे राजा कहते थे

6. दोस्तों से अक्षर शर्त लगाना सबसे बेहतर कौन की? 

7. मारुति 800 को पाना मतलब लक्जरी कार पाने जैसा होता था 

8. जिस व्यक्ति के पास यह मोबाईल होता था उसे समृद्ध व्यक्ति माना जाता था

9.क्या होती है ? टेंशंन नहीं पता था :-

10. रविवार को जल्दी उठ कर दोस्तों के साथ दूरदर्शन पर  मोगली, रंगोली, महाभारत देखना :- 

11. विध्या के लिए किताबो में फूल पत्ती रखना :- 

12.हर रात को बेसब्री से दूरदर्शन पर विक्रम बेताल का इंतजार करना :- 

13. आसमान में उड़ते हुए प्लेन को निशान बनाना  :- 

 

14.शनिवार की जगह सनडे को करना पढ़ा था शक्तिमान 

15.रामायण के महाभारत आते ही सड़के सुनसान हो जाना 

महाभारत

16. ओर वो हमारा ब्लैक एंड व्हाइट टीवी जिसमे रोज़ मच्छर आ जाते थे.

17. जब भूख लगे तो पारले जी है न 

18. स्कूल के बैग मे चाचा चोधरी की कॉमिक बूक 

क्या आपको बोलना आता है

हर यक्ति चाहता है की वह सबके सामने बढ़िया बोल सके.परन्तु ज्यादातर लोगो की यह चाहत पूरी नहीं होती. ज्यादातर लोग घटिया वक्ता होते है.

क्यों.? इसका कारण सीधा सा है. लोग बोलते है समय बढ़ी, महत्वपूर्ण बातो के बजाये छोटी, घटिया बातो पर ध्यान देते है. चर्चा की तेयारी करते समय कई लोग खुद को मानसिक निर्देश देते रहते है ‘मुझे सीधे खड़े रहना है’ इधर-उधर नहीं हिलना है और अपने हाथो का प्रयोग नहीं करना है ‘जनता को यह पता न चलने दे की आप नोट्स की मदद ले रहे है’ याद रखे ग्रामर की गलती न होने दे. इस बात का विशेष ध्यान रखे की आपकी टाई सीधी रहे. जोर से बोले, पर ज्यादा जोर से भी न बोले.

जब वक्ता बोलने के लिए खड़ा होता है तो क्या होता है ? वह डरा हुआ होता है क्योकि उसने अपने दिमाग में एक सूचि बना ली है की उसे क्या चीजे नहीं करनी. क्या मेने कोई गलती कर दी है? सक्षेप में,वह फ्लॉप हो जाता है. वह इसलिए फ्लॉप होता है क्योकि उसने एक अच्छे वक्ता के छोटे, घटिया, तुलनात्मक रूप से महत्वहींन गुणों पर ध्यान केन्द्रत किया है और वक्ता के बड़े गुणों पर ध्यान केन्द्रित नहीं किया है जिस बारे में बोलने जा रहे है उसका ज्ञान और दुसरो लोगो को बताने की उत्कष्ट इछा.

अच्छे वक्ता का असली इम्तिहान इस बात में नहीं की वह सीधा खड़ा होता है या नहीं, वह ग्रामर में गलतियों करता है या नहीं बल्कि इस बात में होता है की वह जनता तक अपनी बाद ठीक ढंग से पहुचाता है या नही हमारे ज्यादातर वक्ताओ  में कई तरह के दोष होते है कइयो की तो आवाज ही खराब है. अमेरिका के बहुत से प्रसिद्ध वक्ताओ को अगर भाषण देने की परीक्षा में बिठाया जाये तो कई फ़ैल हो जाएगे.

 

क्या आप भी महीना आने से पहले सैलरी का इन्तजार करने लगते है

व्यक्ति अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिये दिन रात एक कर देता है लेकिन इसके बावजूद वह अपने परिवार के भविष्य के लिए अपनी सैलरी का एक छोटा हिस्सा भी बचा नहीं पता है. क्यों की उस पर परिवार की अनगिनत जिम्मेदारियों का बोझ रहता है जिनको पूरा करते करते वह चाहते हुए भी बचत कर नहीं पाता है. परिवार की जिम्मेदारियों को पूरा करने के लिए कई व्यक्ति की सैलरी महीना आने से पूर्व ही समाप्त हो जाती है.

इतनी महगाई में व्यक्ति उज्जवल भविष्य के लिए अपनी तनखाह का कुछ हिस्सा बचा नहीं पाता है. जिसका उसे अफ़सोस रहता है. कई व्यक्तियों के परिवार के खर्चे अधिक है जबकि उनकी सैलरी खर्चो की आधी होती है ऐसे में वह व्यक्ति किस तरह अपने परिवार को चलाता है वह स्वयं ही जानता है. भारत देश में अपने भविष्य के लिए निवेश करने वालो के आंकड़े इस तरह है जिसे देख कर आप दंग रह जायेंगे.

रोजमर्रा में व्यस्त जीवन :

व्यक्ति अपने जीवन की नियमित गतिविधियों को पूरा करने के लिए अपनी सम्पूर्ण सैलरी ख़त्म कर देते है. जानकारी के अनुसार ज्ञात हुआ है की दस परिवार में से नो परिवार ऐसे है जो अपनी पूरी सैलरी अपने नियमित कार्य को पूरा करने में ही खत्म कर देते है. जानिए क्या है NEFT, RTGS, IMPS नेट बैंकिंग

लोन का बोझ :

हम भारतीयों में एक बात तो अच्छी है हम कभी भी किसी के एहसान तले दबना नहीं चाहते है इसलिए हम किराये के घर में रहना पसंद करते है लेकिन घर बनाने के लिए हम होम लोन नहीं लेते है. हम बिना दबाव के जीना पसंद करते है. इसलिए 10 में से करीब 7 लोग बिना लोन लिए अपना जीवन व्यतीत करते है. आपकी कमाई है ढाई लाख से ज्यादा, नहीं आएगा नोटिस करे यह काम

महीने का अंत, जेब तंग :

जानकारी के अनुसार भारत देश में करीब 47 प्रतिशत व्यक्ति महीने की अंतिम दिनों में अपनी तनख्वाह में से 1-29 फीसदी ही बचा पाते है. की व्यक्ति तो महीना आने से पहले ही अपनी तनख्वाह का इन्तजार करने लग जाते है.

निवेश के लिए पैसा नहीं :

की व्यक्ति बाजार में या अन्य स्थानों पर निवेश करना चाहते है लेकिन बचत नहीं होने के कारण वह निवेश नहीं कर पाते है. कहा जाता है की दस में से आठ परिवार की स्थिति इतनी खराब है की वह निवेश तो दूर की बात बल्कि अपने परिवार के लिए किसी तरह की कोई बचत भी नहीं कर पाते है. चवनिया बचाएं, (रूपये) अपनी परवाह खुद कर लेगे…

बैंक का सहारा :

अधितर देखा जाता है की जो व्यक्ति अपने परिवार के उज्वल भविष्य के लिए पैसा जमा करने के लिए आज भी बैंक का सहारा लेता है. उसे वह आसान और सुरक्षित मानते है. सिर्फ 99 रुपए में कमाए लाखो, करे यह काम

उज्जवल भविष्य की चिंता :

आपको जानकर हैरानी होगी की व्यक्ति अपने उज्वल भविष्य के साथ ही इसलिए भी बचत करते है क्यों की उन्हें उनकी नोकरी के छूटने का भय बना रहता है.गरीबी, अपशगुन, परेशानी जानिए झाड़ू से जुड़ी ज़रूरी बातें

Nokia ने किया था सबके दिलो पर राज..

आज का दौर इंटरनेट का दौर है। आज हम इंटरनेट पर इतने आश्रित हो गए है की बिना इंटरनेट और स्मार्ट फोन के हमारा कम असम्भव सा प्रतीत होता है. लेकिन क्या आपको पता है की गुजरे दोर में बिना इंटरनेट के भी कई फोन्स और अन्य गैजेट्स ऐसे है जिन्होंने अपने समय में काफी लोकप्रियता हासिल की थी. गुजरे दौर में ना ही टच स्क्रीन का स्मार्ट फोन था और ना ही कोई कनेक्टिविटी थी. लेकिन फिर भी कई फोन ऐसे थे.आज हम आपको नोकिया के कुछ मोबाईल के बारे में बताने जा रहे है जिन्होंने अपने समय में काफी लोकप्रियता हासिल की थी। हर कोई नोकिया का मोबाइल लेना चाहता था.

नोकिया 1100 :-

भारत का सर्वप्रथम मोबाईल फोन है जिसमे टार्च का प्रयोग किया था। अपने दोर में नोकिया 1100 ने काफी नोकिया का ये फोन काफी किफ़ायती माना जाता है इस फोन ने बहोत लोकप्रियता हासिल की थी। आज भी इन फोन का क्रेज लोगो में है।

नोकिया 2300 :-

नोकिया 2300 पहला मोबाईल फोन था जिसमे ड्युअल सिम के साथ पहली बार की-पेड़ में को दो रंगों में विभक्त किया गया था। कहा जाता है की यह मोबाईल उस दौर का स्मार्ट फोन कहलाता था।

नोकिया 6600:-

नोकिया ने 6600 पहला फोन लॉच किया था जिसमे केमरा भी था। नोकिया के इस फोन के बाजार में आने के बाद लोगो में इस फोन के प्रति काफी उत्सुकता देखने को मिली थी। इसके डिज़ाइन के कारण काफी पापुलर हुआ था.जिसके बाद हर किसी को कैमरा वाले फोन की आदत हो गई।

नोकिया 3310 :-

नोकिया का यह फोन मजबूती के लिए खासी चर्चा में आया। कहा जाता है की इस फोन को यदि आप दो मंजिल से भी निचे फेकेगे तो इसे कुछ नहीं होगा।

नोकिया 5300 :-

नोकिया ने अपने नए फोन में स्लाइडर के साथ की-पेड़ भी दिया गया था। नोकिया 5300 में ड्युअल सिम के साथ 1.3 मेगाफिक्सल का केमरा भी दिया गया था।

नोकिया 2300 :-

नोकिया 2300 फोन को अमीरों का फोन कहा जाता था। नोकिया ने इसमें कई फीचर्स दिए थे। जेसे वीडियो, केलकुलेटर,केलेंडर जेसे कई नायब फीचर्स भी थे। इन फीचर्स से यह फोन बिजनेसमेन को ज्यादा पसंद आया था।

नोकिया N 73 :-

कहा जाता है की नोकिया का यह पहला स्मार्ट फोन था जिसमे इंटरनेट की सुविधा भी दी गई थी। इस फोन के साथ ही लोगो में इ-मेल का प्रचलन प्रारम्भ हुआ। नोकिया ने पहली बार कमरे के साथ फ्लेश लाईट को जोड़ा था।

क्या आप भी बिजली का बिल कम करना चाहते, तो अपनाइए ये जरूरी टिप्स

अक्सर हर घर में हर महीने की यह प्रॉब्लम होती है की बिजली का बिल इतना ज्यादा कैसे आ जाता है और हर महीने यह टेंशन बनी रहती है की ऐसा क्या किया जाए जिससे बिजली का बिल कम से कम आए . इस लिए आज हम आप लोगो के लिए कुछ ऐसे आसान तरीके लेकर आये है जिनके वजह से आप आपना बिजली का बिल बहुत ही कम कर सकते है हालांकि आप प्रति यूनिट दर को तो कम नहीं कर सकते है लेकिन आप उपयोग किए गए यूनिट को कम कर के अपने बिजली के बिल में कटौती कर सकते है.

बिजली का बिल कम करने के आसान तरीका 

1. ध्यान रखे की आपके घर का एयर कंडीशनर की समय-समय पर सर्विसिंग जरुर करवाते रहे और उसकी स्वच्छता का भी पूरा ध्यान रखे एयर कंडीशन के तापमान की सेटिंग को भी सही रखना जरूरी है इस के बाद आप के बिजली के बिल में कमी हो सकती है.

2.यदि आप चाहते है की आपके घर का बिजली का बिल कम से कम आए तो सबसे पहले आप को अपने घर में जो भी पुराने बल्ब लगे है तो तुरंत ही पुराने बल्ब को बदल कर उस की जगह LED यूज़ करे LED के बल्ब थोड़े मंहगे जरूर होते है लेकिन इस के यूज़ करने से आपके हर महीने के जो बिजली की होते है उनमे बिल यूनिट में कमी जरुर हो जाएगी.

3. यदि आप अपने घर में रोजाना कपडे धोने के लिए वांशिंग मशीन का उपयोग करते है तो यह बात बिलकुल भी सही नहीं है क्योंकि वाशिंग मशीन के कारण बिजली का बिल भी बहुत ज्यादा आता है इसलिए जब भी आप के कपड़ो की छमता ज्यादा हो तभी आप वाशिंग मशीन का उपयोग करे.

4. आपके घर में वेंटिलेशन बहुत अच्छा होगा तो आपको इससे घर के पंखा चलाने की कोई जरुरत नहीं होगी और यह ही नहीं आपको लाइट भी जला कर रखने की कोई जरूत नहीं पड़ेगी और फिर आपके घर मे बिजली का बिल भी बहुत कम आएगा.

5. सोलर ऊर्जा को खरीदने में तो थोड़े ज्यादा पैसा खर्च होता है लेकिन बाद में इसकी वजह से आपके घर में बिजली का बिल बहुत ही कम हो जाता है इस लिए इसका उपयोग जरुर करे.

6. यदि आपके घर में कोई पाइप लाइन यह नलका है जिसमे से पानी टपक रहा है तो इसका ध्यान रखना आवश्यक है क्योकि एक-एक बूंद कर कर के यह टपकने वाला पानी हमारी पानी की टंकी को बार बार खाली कर देता है जिसे भरने के लिए बार बार मोटर चालू करना पड़ता है जिसके कारण बिल में काफी तेजी आ जाती है. ये बहुत ही छोटी छोटी बाते है जिनका ध्यान रखा जाये तो आपका बिजली बिल काफी हद तक कम हो सकता है। 

यहाँ डर सबको लगता है

आज कल इन्सान के डर मनोविज्ञान होते है चिंता, तनाव, उलझन यह सभी हमारी नकारात्मक, अनुशासनहीनत,कल्पना के कारण पैदा होते है। जब हम कठिन समस्याओं का सामना करते है, तो हम तब तक दलदल में फसे रहते है जब तक की हम कर्म नहीं करते। आशा से शुरुवात होती है परन्तु जीतने के लिए आशा के साथ कर्म की भी जरुरत होती।

  1. रंगरूप के कारण झिझक

अपना हुलिया सुधारे.नाई या ब्यूटी पार्लर में जाए। जूते चमकाए साफ़ और प्रेस किये हुए कपडे पहने बेहतर ढंग से तैयार हो। अच्छा दिखने ले हमें हमेशा नए कपड़ो की जरुरत नहीं होती.

  1. किसी महत्वपूर्ण ग्राहक को खो देने का खतरा

बेहतर सेवा देने की दुगुनी कोशिश करे। ऐसी हर चीज को सुधारे ले जिससे आपके ग्राहक का आपसे विश्वास कम होता है

  1. परीक्षा में फेल होने का डर

चिंता में समय गवाने के बजाये इस समय को पढने में लगाए। मन लगा कर पढने लगेगे तो परीक्षा  का डर थोड़े समय में अपने आप खत्म हो जाएगा।

  1. आपके नियंत्रण से पूरी तरह बहार की चीजो का डर

अपना ध्यान किसी दूसरी तरफ ले जाए। अपने बगीचे में जार कर खरपतवार साफ़ करे. अपने दोस्तों या परिजनों के साथ फिल्म देखने जाए आपका ध्यान और आपके सोचने का तरीका बदल जायेगा।

  1. शारीरिक क्षति का डर

किसी ऐसी चीजो से शारीरिक क्षति का डर जिसे आप नियंत्रित नहीं कर सकते जेसे बिजली गिरना, तूफान आना, हवाई जहाज दुर्घटना का डर। अपना ध्यान दुसरो के डर को कम करने में उनकी मदद करे।

  1. निवेश करने या घर खरीदने के पहले का डर

सभी बातो पर विचार कर ले। फिर फेसला करे.एक बार फेसला करने के बाद आप उसी के हिसाब से काम करे अपनी बुधि और अपने निर्णय में विश्वास रखे।

  1. हमारे बारे में दुसरे लोग क्या सोचेगे.

यह सुनिश्चित कर ले की आप जो करना चाहते है वह सही है. फिर चाहे उस काम को करे.किसी भी यक्ति के बिना आलोचना के कोई महत्वपूर्ण काम कभी नहीं किया।

  1. लोगो का डर

चीजो को सही नजरिएसे देखे याद रखे सामने वाला यक्ति भी आप ही की तरह एक इन्सान है।

अगली बार जब भी आपको डर लगे चाहे वह छोटा हो या बड़ा, अपने आपको संभाले फिर इस सवाल का जवाब ढूढे किस तरह के काम से में अपने डर को जीत सकता हु।

 

कही भी जाने से पहले ये बाते बेहद जरुरी

यात्रा (ट्रेवलिंग) का उद्देश्य देश और दुनिया की ऐसी अलग-अलग जगह जाना होता है जो सुंदर, सुख की अनुभूति कराने वाली तो हो हीं साथ ही वहां के लोगों के पहनावे,  व्यवहार, बोलचाल, और  संस्कृति का अनुभव भी कराए। कुछ लोग अकेले ट्रेवल करना पसंद करते हैं, तो कुछ लोग ग्रुप में, लेकिन दोनों ही स्थितियों में यात्रा मजेदार तब होती है जब बेसिक चीजों का ध्यान रखा जाए।

सामान का ध्यान

यह ध्यान रखना जरूरी है कि आप जहां यात्रा के लिए जा रहे हैं, वहां का मोसम कैसा है या आपकी यात्रा का उद्देश्य क्या है। अपने सामान की पैकिंग करते समय इस बात का ध्यान रखें कि कभी भी अपने साथ ऐसे कपड़ेन लेकर जाएं, जो बहुत ही हलके रंग के हों और जल्द ही गंदे हो जाएं, इससे आप बार-बार कपड़े धोने की समस्या से बच पाएंगे। अपने साथ कुछ ऐसे कपड़े भी रख लें जिसे आप कभी भी पहन पाए.

कही भी रुकने की अच्छी जगह

इंटरनेट के युग में सबकुछ आसानी से उपलब्ध है। घर बैठे आसानी से दूसरे शहर की व्यवस्था देखी जा सकती है। कई बार ऐसा होता है कि हम नई जगह जाते हैं और हमें होटल मिलने में परेशानी होती है, इससे बचने के लिए होटल की पहले ही -बुकिंग करा लें। अच्छे पैकेज डिस्काउंट का लाभ भी उठा सकते हैं।

ज्यादा रूपये ना रखे

कैश रूपये का इस्तेमाल कम से कम ही करना चाहिए। यात्रा के दौरान इस बात का ख्याल रखें कि कभी भी बहुत ज्यादा कैश या फिर कीमती सामान लेकर न जाएं। अपने कार्ड्स डेबिट, क्रेडिट भी संभालकर रखें इस्तेमाल करे। इसके अलावा इस बात का भी पूरा ध्यान रखें कि अपने साथ किसी भी तरह की कोई ज्वैलरी या कीमती सामान न रखें।

सेहत का ध्यान

कही पर भी मोसम काफी मायने रखता है। ट्रेवलिंग के दौरान थकान, मौसम या फिर खान-पान में बदलाव होने से बदहजमी, लूजमोशन, सर्दी – बुखार जैसी समस्याएं होने लगती हैं। ऐसे में अच्छा होगा कि आप डॉक्टर की सलाह लेकर कुछ दवाइयां अपने पास सावधानी के तौर पर पहले ही रख लें। इस तरह जागरुक रहें तो यात्रा शानदार होगी

बुरे समय में याद रखे यह बाते. नहीं मिलेगी असफलता

जीवन की कसौटी पर हर व्यक्ति खरा नहीं उतरता है. कुछ व्यक्ति अपने जीवन में आने वाली तमाम तकलीफो को झेलते हुए आगे बढ़ जाते है जबकि कुछ उन परिस्थियों का सामना नहीं करते है और जीवन की रेस में पीछे छूट जाते हैं. जीवन में वही व्यक्ति सफल और कामयाब होता है जो जीवन में आने वाली तमाम दुःख दर्द को झेलने की क्षमता रखता हो. वही व्यक्ति अपने भविष्य को अपने अनुसार बना सकता है. सफल व्यक्ति का सिर्फ एक ही सूत्र होता…

कई बार व्यक्ति अपने बुरे वक्त में अपने निर्धारित लक्ष्य को भूल जाता है. व्यक्ति अपने जीवन में तभी अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकता जब वह जीवन की मुसीबतो से निकलना जानता हो. अपने बुरे समय में व्यक्ति को सिर्फ धैर्य और सयम की आवश्यकता होती है. कई बार व्यक्ति अपने बुरे समय में आत्म विश्वाश खो देता है. जो उसकी नाकामी का पहला प्रमाण होता है. याद रखे कुछ बाते : 

दुःख पीड़ा : हर अच्छे परिणाम के लिए खुद से पूछे ये सवाल

कई बार व्यक्ति के जीवन में कुछ कार्य व्यक्ति को कई कठिनाइयों के साथ ही उसे दुःख और पीड़ा देते है. व्यक्ति को अपने जीवन की तकलीफो को भूलते हुए उनसे उभरना चाहिए. न की उन की गहराइयो में जाना चाहिए. सुख और दुःख जीवन के दो पहलु है मनुष्य को जीवन की इस बात को कभी भूलना नहीं चाहिए.

सकारात्मक सोच : जीवन मे सफलता का मंत्र, न रुको न झुको निरंतर बढ़ते चलो

व्यक्ति को अपने जीवन के बुरे समय में सिर्फ इस बात का ध्यान रखना चाहिए की जिस तरह जीवन में सुख के दिन व्यतीत हो गए थे उसी तरह दुःख के दिन भी व्यतीत हो जायेगे. अपनी सोच सदैव सकारात्मक रखे.

मन रखे शांत : बड़ी सोच का बड़ा जादू..

जीवन उसी का नाम है जिसमे सुख के साथ दुःख भी आता है. हमें अपनी सोच सदैव सकारात्मक रखते हुए अपने मन को शांत रखना चाहिए. मन शांत रहने से आपका हर कार्य सफल होगा साथ ही आप अपने कार्य को और बेहतर ढंग से करने के योग्य बनेगे.

नाकामी को बनाये हथियार : न भागना है न रुकना है बस चलते जाना है..

कई बार व्यक्ति जीवन में असफलता प्राप्त होने से निराश हो जाता है लेकिन व्यक्ति को जीवन में मिली असफलता को ही अपना हथियार बनाना चाहिए जिससे आपको आगे बढ़ने की प्रेणा मिलती रहेगी.

Wikipedia की कुछ रोचक जानकारी जो आप नहीं जानते

जब भी हमे किसी भी टॉपिक पर कोई जरुर जानकारी की आवश्यक पड़ती है तब एक विकिपीडिया ही है जो हमे हमारे किसी भी टॉपिक पर सही और बहुत सही जानकारी देती है ओर कई भाषाओ मे देती है. ऐसे तो इंटरनेट पर हमे कई सारी वेबसाइट मिलती है जो की हमारे किसी भी प्रशन का उत्तर हमे दे देती है लेकिन जो जानकारी विकिपीडिया की वेबसाइट दे सकती है वो कोई ओर वेबसाइट नहीं दे सकते है.

क्योंकि विकिपीडिया हमे अपनी जानकारी पूर्ण रूप से देती है इस लिए विकिपीडिया वेबसाइट हमे इतनी अच्छी जानकारी उपलब्ध कराती उसके बारे में आप कितना जानते है आइए हम को बताते है.

1. जिमी वेल्स और लैरी सैगर ने 16 साल पहले 15 जनवरी 2001 में ही विकिपीडिया को आरंभ किया था.

2. Wikipedia का सबसे अधिक पढ़ा जाने वाला पेज जो है वो स्टीव जॉब्स का पेज है जोकि 6 अक्टूबर 2011 को 74 लाख और अगले दिन में 16 लाख बार देखा गया था.

3. टाइम मैगजीन 2006 में विकिपीडिया पर पहली बार आर्टिकल एडिट करने वाला व्यक्ति था.

4. विकिपीडिया एक ऐसी वेबसाइट है जो कि भारत में सातवी सबसे मशहुर वेबसाइट बनी है जिसने ट्विटर को भी पीछे छोड़ दिया.

5. इंटरनेट पर सबसे ज्यादा उपयोग किए जाने वाले यूजर की संख्या 65,992,259 से भी कई ज्यादा है.

6. इंग्लिश में विकिपीडिया को सबसे ज्यादा मतलब 53 लाख आर्टिकल है

7. और हिंदी में कम से कम 1,16,200 आर्टिकल है जोकि अपने पाठको को चुनौती देता है कोई भी विकिपीडिया पर विकिपीडिया पर लगे आर्टिकल के बारे में बताए.

8.Wikipedia की एक ऐसी कमेटी है जिसमे उन विकिपीडिया को जन्मदिन की शुभ कामना देती है जिनका नाम इस विकिपीडिया के पेज पर शामिल है.

वोटर ID कार्ड में है गलतियाँ घर बैठे करवाएं ठीक

भारत के कई राज्यों में चुनाव 2017 की घोषणा हो गई है साथ ही साथ लोगो को वोटर कार्ड बनवाने के लिए सरकार जागरूक भी कर रही है. ताकि आगामी चुनाव में वोट डालने में किसी भी वोटर को किसी तरह की कोई परेशानी न आये. कई लोग अपना वोटर कार्ड कलर बनवाना चाहते है तो कोई ब्लेक एंड व्हाइट सभी की अपनी अपनी पसंद होती है. कई व्यक्तियों का कहना है की कलर वोटर आई डी कार्ड जल्द ही ख़राब हो जाते है जबकि ब्लेक एंड व्हाइट वोटर कार्ड जल्दी ख़राब नहीं होते है. यह अधिक समय तक चलते है.

चुनाव में वोट डालने के लिए व्यक्ति का 18 वर्ष का होना आवश्यक होता है जिसके लिए अपनी उम्र का सत्यापन देने के लिए वोटर आई डी कार्ड का होना जरुरी होता है. बिना वोटर आई डी के कोई भाई व्यक्ति वोट नहीं डाल सकता है. सरकार सिर्फ उसी व्यक्ति को वोट डालने का अधिकार देती है जिसके पास वोटर आई डी कार्ड बना होता है. कई व्यक्तियों के पास वोटर कार्ड तो है लेकिन उनमे कई तरह गलतियों भी है. आज हम आपको बतायेगे की वोटर आई डी की गलतियों को आप किस तरह से सही करा सकते है.

करेक्शन करने के लिए आपको भारतीय निर्वाचन आयोग की वेबसाइट www.nvsp.in/forms/ पर लॉगइन करना होगा. इसके बाद इन वोटर रोल के ऑइकन पर क्लिक करना होगा जिससे इस पर एक फार्म 8 खुलेगा.यह फार्म आपको ऑनलाइन भरना होगा. 

क्या कर सकते है :

वोटर आई डी कार्ड में कई बार विभिन्न प्रकार की गलतियां भी हो जाती है जैसे नाम में गलती , माता या पिता के नाम में गलती, एड्रेस में या फिर फोटो में भी कई प्रकार की गलतियां हो जाती है. जिन्हें सही करवाने के लिए आप ऑनलाइन भी आवेदन कर सकते है. कई बार वोटर कार्ड में नाम किसी और का और पता किसी और का प्रिंट हो जाता है जिसे आप बड़ी आसानी से आनलाइन ठीक करा सकते है.

नाम दर्ज होना आवश्यक :

यदि आपके नाम का वोटर आई डी कार्ड बना हुआ है या फिर आपका नाम वोटर आई डी लिस्ट में जुडा हुआ है तो ही आप वोटर आई डी में करेक्शन करा सकते है अन्यथा नहीं. आप किसी दुसरे के वोटर आई डी में करेक्शन नहीं करा सकते है.किसी दुसरे के वोटर आई डी में करेक्शन करा कर उसमे अपना नाम दर्ज करवाना कानूनन अपराध होता है.

सही जानकारी का चयन :

जब आप अपने वोटर आई डी कार्ड में आनलाइन करेक्शन कराने जायेंगे तो आपके सामने एक फार्म होगा जिसमे जिस स्थान पर गलती हुई है उस स्थान पर सही और सटीक भाषा में अपना उत्तर लिखे क्यों की वही जानकारी आपके वोटर आई डी कार्ड पर प्रिंट होगी. इसलिए जानकारी भरते समय सभी बातो की भूल कर ध्यान से उस कार्य को करे . ताकि वोटर कार्ड में किसी तरह की कोई गलती नहीं हो.

ओरिजनल डोक्युमेंट करने पड़ेगे स्केन :

जब भी आप अपने वोटर आई डी कार्ड में ऑनलाइन करेक्शन करने के लिए जाए तो आपने साथ वोटर आई डी में दिए गए सभी जरुरी दात्तावेज भी साथ में लेकर जाए क्यों की ऑनलाइन करेक्शन में आपके सभी ओरिजनल कागजात को स्केन किया जायेगा. फिर आपकी जानकारी को अपडेट किया जायेगा.

फोटो का करे बदलाव :

यदि आपके वोटर आई डी कार्ड की सारी जानकारी सही है लेकिन आपको अपने फोटो में करेक्शन करना है तो आप अपनी कलर फोटो को व्हाइट ब्लेक ग्राउंड में खिची हुई फोटो को अपलोड कर सकते है एक बात का खास ध्यान रखना आवशयक है की आपकी कलर फोटो का ब्लेक ग्राउंड व्हाइट होना चाहिए नहीं तो निर्वाचन कार्यालय आपका करेक्शन रिजेक्ट कर देगा.

एक महीने में प्राप्त करे वोटर आई डी कार्ड :

आपने यदि आपने वोटर आई डी कार्ड में किसी प्रकार का करेक्शन कराया है तो आपके घर निर्वाचन आयोग कार्यालय से एक आधिकारि आएगा जो आपके द्वारा करेक्शन की गई सारी जानकारी के ओरिजनल कागजात आपसे मागेगा और यदि वह सब सही हुए तो एक सॉफ्ट काफी वह अपने साथ ले कर जायेगा. और एक महीने के बाद आप अपना वोटर आई डी कार्ड प्राप्त कर सकते है.

मुझे नौकरी पर क्यों रखा गया है?

मनुष्य को दिन का काम शुरू करने से पहले और स्वयं को सिद्ध करने के लिए खुद से यह सवाल पूछना चाहिए की मुझे नोकरी पर क्यों रखा गया है? आपको कोन सी चीज प्राप्त करने के लिए नोकरी पर रखा गया है.

आपको तनख्वाह क्यों देते है ?

तब आप क्या जवाब देगे ? आपको तनख्वाह इस लिए दी जाती है की आपको किसी विशिष्ट कार्य को करने के लिए नियुक्त किया गया है. आपको विश्वाश के साथ कुछ खास परिणाम हासिल करने के लिए नोकरी पर रखा गया है. जो आपके संगठन के लिए आर्थिक मूल्य होता है. आपके 20 प्रतिशत कामो में आपका 80 प्रतिशत मूल्य तय होता है. आमतोर पर देखा जाता है की कई व्यक्ति इस सवाल का जवाब नहीं दे पाते है. किन्तु आपको पता होना चाहिए की आपको नोकरी पर क्यों रखा गया है? और आपको संगठन तनख्वाह क्यों देते है.

मेरी सबसे ज्यादा मूल्यवान गतिविधि कोन सी है?

ये वे गतिविधिया है, जिनमे आपकी कम्पनी या करियर सम्बन्धी गुणों,योग्यता, अनुभवो और कुशलता का सर्वोच्च और सर्वक्षेष्ठ इस्तेमाल होता है. अदि आपको किसी बात में दिक्कत हो तो आप अपने बोस से इस बारे में चर्चा कर सकते है. जिससे आप अपनी क्षेष्ट गतिविधि का प्रयोग कर सकते है.

मेरे प्रमुख परिणाम क्षेत्र क्या है?

जेसा की हमने पहले भी इस बात का जिक्र किया है की आपके प्रमुख परिणाम क्षेत्र काम वह है जिन्हें आपको हर हल में पूरा करना है. तभी आप अपने प्रमुख परिणाम हासिल कर सकेगे. इसी काम से आपकी सफलता और असफलता तय होती है.
कोन सा काम है जिसे सिर्फ “में” कर सकता हूँ :-

स्वयं को काबिल बनाने के लिए हमें निरंतर सिर्फ यही सोचना चाहिए की वह कोन सी चीज है जिसे सिर्फ में कर सकता हु अन्य कोई व्यक्ति नहीं कर सकता है. और जिस कम से मेरे जीवन का दर्पण बदल सकता है. यदि आपको इस बात में किसी तरह की परेशानी हो तो आप अपने किसी बड़े अधिकारी या किसी विशिष्ट व्यक्ति से इस बारे में रे ले सकते है.

समय का मूल्यवान उपयोग क्या है ?

निरंतर अपने समय का सदउपयोग करते रहना चाहिए. समय के अनुरूप सभी तरह की तकनीको एवं विधियों का लक्ष्य इस सवाल का सटीक जवाब देने में आपकी मदद करता है.

जब आप निरन्तर स्वयं इन सवालों का अध्ययन करेगे तो आप पायेगे की में कार्य के प्रति अनुशाषित हो गया हु.
जब आपको इन सवालों का जवाब मिल जायेगा तब आप दुसरो से बेहतर कार्य करेगे.

Image

अद्भुत् होने के साथ खतनाक भी है. दुनिया के ये रनवे

दुनिया में ऐसी कई जगह है जिन्हें देखते ही व्यक्ति के दिल से सिर्फ एक ही बात निकलती है ओह माय गॉड. विश्व में ऐसे कई स्थान है जिन्हें देखने पर वह अजीबो गरीब होने के साथ ही मजेदार भी है. आज हम आपको ऐसी ही कुछ जगहों के बारे में बताने जा रहे है जो देखने में मजेदार होने के साथ ही घातक भी होती है जहा पर इक छोटी की चूक कई व्यक्तियों की जान भी ले सकती है.

आज हम आपको ऐसे एयरपार्ट और रनवे के बारे बताने जा रहे है जो देखने में अद्भुत होने के साथ ही खतनाक भी है. दुनिया में ऐसे कई रनवे ऐसे है जो की हाइवे से होते हुए गुजरते है जिन्हें देखना वाकई मजेदार होने के साथ ही डरावना भी होता है. इस ही एक रनवे जर्मनी में भी स्थित है जहा पर प्लेन ओवर ब्रिज पर लेंड होता है और ब्रिज के निचे से हजारो गाड़िया निकलती है. यह एयरपोर्ट जर्मनी में स्क्वॉदिज एयरपोर्ट है जिसे लिपजिंग हाल्ले के नाम से भी जाना जाता है.

कहा जाता है की इस रनवे को बनाने का मकसद सिर्फ लोगो को परेशानी से बचाना है. इस रनवे को बनाने के लिए तीन ओवर ब्रिज का निर्माण कराया गया था. ताकि यातायात किसी भी तरह से बाधित न हो. और व्यक्ति अपना सफर करते रहे. इस रनवे की कुल लंबाई 3.6 किलोमीटर है.

न्यूजीलैंड में स्थित गिसबोर्न एयरपोर्ट को भी दुनिया का सबसे अजीबो गरीब एयरपोर्ट माना जाता है क्यों की यहाँ का रनवे भी रेलवे ट्रेक से होते हुए गुजरता है. हल्का की न्यूजीलैंड का गिसबोर्न एयरपोर्ट करीब 160 हेक्टयर में फेल हुआ है. इस एयरपोर्ट में तीन रनवे है लेकिन प्रमुख रनवे पर ही रेलवे ट्रेक बना हुआ है जिसके कारण कई बार प्लेन को लेंडिंग के लिए ट्रेन के जाने का इन्तजार भी करना पड़ता है. जब तक ट्रेन रनवे से गुजर नहीं जाती तब तक प्लेन यहाँ पर लेंड नहीं कर सकता है. यह कार्य काफी खतरनाक होता है.

यह बाते सिद्ध करती है सच है रामायण गाथा

आज के दौर में भी ऐसे कई व्यक्ति है जो हमारी पुराणी सभ्यता को नहीं मानते है, साथ ही हमारे भूतकाल की कुछ गतिविधियों पर भी विश्वाश नहीं करते है. उदहारण के लिए हम रामायण को ले सकते है जैसे कई व्यक्ति कहते है की रामायण की गाथा महज एक मनगढ़त कहानी है. तो कई व्यक्ति कहते है यह कथा सत्य है, लेकिन आज भी ऐसे कई व्यक्ति है जो रामायण पर विश्वाश नहीं करते है.

धरती पर ऐसे कई सवाल है जिनका जवाब आज तक नहीं मिल पाया है लेकिन उस बातो के सबूत आज भी मौजूद है जिससे रामायण की बाते सत्य साबित होती है. जैसे लंका जाने के लिए जिस सेतु का रामायण में जिक्र किया गया था आज भी वह सेतु वहा स्थित है जिसे हम राम सेतु के नाम से जानते है. आज हम आपको इस लेख के माध्यम कुछ ऐसे प्रमाण बताने जा रहे है जिन्हें देखने के बाद जो व्यक्ति रामायण पर विश्वाश नहीं करते है वह भी आज विश्वाश करने पर मजबूर हो जायेंगे.

1. सर्प आकार की गुफा :

कहा जाता है की जिस समय रावण ने माता सीता का हरण किया था तो रावण ने माता सीता को सर्वप्रथम इस स्थान पर रखा था. माता सीता को रखने का प्रमाण आज भी यह गुफा उसी अवस्था में स्थित है. इस गुफा का निर्माण कोबरा साप जैसा है.

2. हनुमान गढ़ी :

जिस समय हनुमान भगवान् से बिछड़ कर उनकी प्रतीक्षा के लिए जिस स्थान पर रहते थे उस स्थान को हनुमान गढ़ी के नाम से जाना जाता है. इस स्थान का पूर्ण जिक्र रामायण में किया गया है. यह स्थान अयोध्या के समीप ही स्थित है. साथ ही वह मंदिर आज भी उस स्थान पर सुसज्जित है.

3. पैर के निशान :

जिस समय भगवान् हनुमान को समुद्र पर माता सीता को खोजने को कहा गया तो हनुमान ने अपना विशाल रूप धारण कर लंका की और प्रस्थान किया था. भगवान हनुमान ने अपने विशालकाय रूप में ही लंका की धरती पर कदम रखा था जिससे भगवान हनुमान के पैरो के निशान वहा बन गए थे.

4. श्री राम सेतु :

जिस समय भगवान् राम को ज्ञात हुआ की माता सीता को रावण ने बंधक बना कर समुद्र पर लंका में छुपा रखा है तो भगवान राम ने राम सेतु का निर्माण कराया . जिससे पूरी वानर सेना के साथ भगवान् राम ने लंका पहुच कर रावण का वध किया था. इस बात का पूर्ण विवरण रामायण में किया गया है जिसका प्रमाण राम सेतु आज भी उसी जगह स्थित है.

5. पानी में तैरते पत्थर :

लंका पहुचने के लिए भगवान राम को पुल बनाने की आवश्यता थी जिसे बनाने के लिए ऐसे पत्थरों को पानी में फेका गया जिन्हें नाल और निल ने छुआ हो वही पत्थर पानी में तेर सकते है. और वही हुआ पत्थरों पर श्री राम लिखकर पानी में फेका गया तो वह तैरने लगे इस बात का प्रमाण तब प्राप्त हुआ जब सुनामी में पल से कुछ पत्थर रामेश्वरम में आ गए थे. जब उन्हें पानी में पुनः डाला गया तो वह पत्थर फिर से पानी में तैरने लगे.

6. द्रोणागिरी पर्वत :

जिस समय भगवान लक्ष्मण युद्ध के दौरान म्रत्यु शैय्या के करीब पहुच गए थे तो हनुमान को ही संजीवनी बूटी लाने के लिए कहा गया था लेकिन बूटी की पहचान न होने के कारण हनुमान पूरा द्रोणागिरी पर्वत ही लंका ले कर चले गए थे लेकिन जब भगवान राम और रावण का युद्ध समाप्त हुआ तो हनुमान ने द्रोणागिरी पर्वत पुनः अपने स्थान पर रख दिया था.

7. दुर्लभ जड़ी-बूटी :

कहा जाता है की श्रीलंका में कुछ ऐसी जड़ी बूटी के अवशेष मिले है जो काफी दुर्लभ है. कहा जाता है की लक्ष्मण को यही जड़ी बूटी दी गई थी. लंका में संजीवनी जड़ी बूटी का मिलना इस बात का प्रमाण है की रामायण कोई नाट्य कथा नहीं बल्कि सत्य घटना है.

8. अशोक वाटिका :

जब रावण ने माता सीता का हरण किया था तो माता सीता को रावण ने जिस वाटिका में ठहराया था वह वाटिका अशोक वाटिका कहलाई. कहा जाता है की माता सीता अशोक वाटिका में अशोक के पेड़ के निचे ही बैठ कर प्रभु श्री राम के आने का इंतिजार करती थी.

10. लेपाक्षी मंदिर :

कहा जाता है की जिस समय रावण माता सीता का वन में से हरण कर ले जा रहा था तो रावण को रोकने के लिए जटायु ने रावण से युद्ध किया लेकिन वह इसमें सफल न हो पाया. रावण ने आकाश मार्ग से ही जटायु को मार कर जिस स्थान पर फेका था वह स्थान लेपाक्षी मंदिर के नाम से जाना जाता है.

11. विशालकाय हाथी:

रामायण में कहा गया है की लंका की ऱखवाली के लिए मुख्य द्वार पर बड़े आकर के हाथी हुआ करते थे जिसे हनुमान ने महज एक प्रहार से ही धूल चटा दी थी. लंका में आज भी उन बड़े और विशालकाय हाथियों के अवशेष मिल रहे है. जो उन बातो का प्रमाण देते है.

12. लंका के निशान :

रामायण के अनुसार भगवान् हनुमान ने अपनी पूछ से ही लंका में आग लगा दी थी . जिससे वहा की मिटटी का रंग काला हो गया था.

13. अग्नि परीक्षा :

कहा जाता है की जिस समय भगवान राम ने माता सीता को रावण के बंधन से छुड़ाया था तो माता सीता को राम ने अग्नि परीक्षा के लिए कहा. माता सीता ने जिस पेड़ के निचे अग्नि परीक्षा दी थी वह पेड़ आज भी वहाँ पर स्थित है.

14. पंचवटी:

भगवान राम और सीता माता जिस समय अयोध्या नगरी को छोड़कर जिस स्थान पर वनवास के लिए गए थे वह स्थान पंचवटी था. लक्ष्मण ने इसी स्थान पर सूर्पणखा का अभिमान तोड़ने के लिए उनकी नाक काटी थी.

17. रामलिंगम :

रावण एक ब्राम्हण था जिसके वध के बाद भगवान राम पर बम्ह हत्या का पाप लगा था. जिसे हटाने के लिये भगवान राम ने शिव जी की आराधना करनी पड़ी थी तब भगवान शिव ने राम को चार शिवलिंग बनाने के लिए कहा था जिसमे से एक शिवलिंग आज भी यहाँ स्थित है.यह सभी बाते सिद्ध करती है की रामायण कोई सिर्फ कहानी नहीं अपितु एक सत्य कथा है. यह सब उनके सत्यता के प्रमाण है.

Online पार्टनर ढूंढ रहे है तो ध्यान रखे इन बातों का

लड़का हो या लड़की एक अच्छे पार्टनर की तलाश तो हर किसी को होती है लेकिन व्यक्त बदलने के साथ-साथ पार्टनर ढुढ्ने के तरीके भी अलग-अलग होगाए है जैसे की पहले बिना फोटो देखे ही शादी हो जाती है फिर एक दौर आया जहां पर मुलाकातों के बाद मे शादी तक बात पहुँचती थी और एक आज का दौर है जहां पर अपना पार्टनर ऑनलाइन ही ढुढ़ लिए जाते है जी हाँ ऑनलाइन पार्टनर ढुढ्ने मे हमे हमारा मन पसंद जीवनसाथी मिलने के तो बहुत सारे ऑप्शन मिल जाते है।

लेकिन आपने वो कहावत तो जरूर ही सुनी होगी न की जो दिखता है वो होता नहीं और जो होता है वो दिखता नहीं और ऐसी तरह की प्रॉबलम होती है ऑनलाइन प्रोसेस मे क्योकि इसमे भी जो होता है वो हमे दिखाई नहीं देता है इस लिए आज हम आप लोगो के लिए ऑनलाइन पार्टनर ढुढ्ने की कुछ ऐसे जरूरी बाते लेकर आइये है जिन्हे आप को ध्यान मे रखना बहुत ही जरूरी है तो फिर आइये जानते ये बाते ।

किसी को भी तुरंत अपनी पर्सनल जानकारी न दे

यदि आप ऑनलाइन पार्टनर ढूंढते है और अपने मन पसंद पार्टनर के साथ मे बात करते है या चैटिंग करते है तो उसमे तुरंत ही किसी को अपनी पर्सनल जानकारी न दे जैसे की अपना फोन नंबर, घर का पता आदि क्योकि ऐसा करने से आप किसी भी बड़ी प्रॉबलम मे पड़ सकते है।

धीरे-धीरे अपनी बात को आगे बढ़ाए

जब भी आप अपने पार्टनर से बात करे तो उससे थोड़ा संभल कर ही बात करे क्योकि अभी आप अपने पार्टनर को ठीक से नहीं जानते है ।

अपनी फोटो शेयर करने से पहले सोचे

इस सेल्फ़ी वाले दौर मे अपने पार्टनर से फोटो शेयर किए बना रहना बहुत ही मुश्किल होता है लेकिन किसी भी अनजान व्यक्ति को अपनी फोटो शेयर करने से पहले अच्छी तरह से सोच ले क्योकि ऐसा करने से आप आफत मे भी पड़ सकते है।

अपनी पहली मुलाक़ात सही जगह चुने

जब भी आप ऑनलाइन पार्टनर से पहली बार मिलने जाते है तो उसके लिए आपको एक सार्वजनिक जगह ही चुनना चाहिए और अपने साथ किसी फ्रेंड या रिलेटिव को साथ लेकर जाए।

अपने पार्टनर को अच्छी तरह से जान ले

अपने जीवनसाथी को चुनते टाइम मे किसी भी तरह की कोई जल्दबाज़ी या हड़बड़ी न करे क्योकि यह आपको बाद मे बहुत भारी पड़ सकता है और अपने जीवनसाथी के बारे मे जानने के लिए उसके परिवार,फ़्रेंड्स और उसकी संगती को अच्छे से जान ले उसके बाद ही उसे फ़ाइनल करे।

अपनी फॅमिली को भी बताए

युवा आपने हिचकिचाहट के कारण अपने पार्टनर के बारे मे अपनी फॅमिली को कुछ नहीं बताते है और फिर किसी धोखा-धड़ी या ब्लैकमेलिंग के जाल मे फंस जाते है इस लिए अपने पार्टनर के बारे मे हमेशा ही अपनी फॅमिली से बात जरूर करे।

इस राज्य में अब बिना interview के मिलेगी सरकारी नौकरी

आजकल की इस प्रतियोगिता से भरी दुनिया में कोई भी अच्छी जॉब या सरकारी नौकरी पाना कितना मुश्किल होते जा रहा है जिसकी वजह से हमारे देश में बेरोजगारी की समस्या बढती ही जा रही है जिसका सबसे बड़ा  कारण होता है किसी भी तरह की जॉब या सरकारी नौकरी के लिए interview को फेस करना क्योंकि कई युवा ऐसे होते है जिनके पास में बहुत अच्छी डिग्री होती है लेकिन वहां नौकरी के लिए interview को फेस नहीं कर पाते है जिसके कारण उन्हें अच्छी डिग्री के साथ में अच्छी नौकरी नहीं मिल पाती है लेकिन आज हम उन्ही युवाओ को एक ऐसे राज्य के बारे में बताने वाले है जहाँ पर उन्हें बिना interview के ही सरकारी नौकरी मिल जाएगी तो आइये जानते है इस राज्य के बारे में .

उत्तर प्रदेश सरकार ने सरकारी नौकरियों के लिए interview देने वाली प्रक्रिया को ख़त्म करने का फैसला किया है जहाँ पर ग्रुप B,C,D कैटेगरी के सभी अराजपत्रित पदों पर इंटरव्यू देनें की प्रोसेस को खत्म करने का ऐलान कर दिया है जिसके चलते अब किसी को भी उत्तर प्रदेश में सरकारी नौकरी पाने के लिए किसी भी प्रकार के मुश्किल इंटरव्यू को फेस करने की कोई जरुरत नहीं पड़ेगी.

उत्तर प्रदेश के कर्मचारियों को सातवे वेतन आयोग का होगा लाभ

उत्तर प्रदेश मंत्रिपरिषद की बैठक के दौरान उप्र राज्य विद्युत उत्पादन निगम, उप्र जल विद्युत निगम एंव उप्र पावर ट्रांसमिशन कॉरपोरेशन के कर्मचारियों को सातवें वेतन आयोग का लाभ दिए जाने वाले प्रस्ताव रखे गए थे जिन्हें अब स्वीकार कर लिया गया है जिसके चलते आने वाले दिनों में कई तरह की सरकारी नौकरियों में बढ़ोतरी देखने की संभावना है इस लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने कई नई-नई सरकारी नौकरियां निकालने का फैसला कर लिया है.

वही मंत्रिपरिषद की बैठक में कई तरह के और भी निर्णय लिए गए है जिसे की नगर निगम अलीगढ़ की सीमा का विकास करने का फैसला लिया गया और जनपथ कौशाम्बी के नगर पंचायत भरवारी की सीमा का विकास एंव उन्नत बनाने का फैसला लिया गया था.

यदि इन सभी निर्णयों का पालन बहुत ही अच्छी तरह से किया गया और मंत्रिपरिषद के इन निर्णयों का निराकरण किया गया तो उत्तर प्रदेश आने वाले दिनों में काफी उन्नति कर सकता है इन नियमो के बारे में जानकर बाकी के राज्यों ने भी बहुत प्रशंसा की है बिना interview के सरकारी नौकरी की इस प्रकिया को ख़त्म कर इस राज्य के सभी युवाओ को बहुत ही लाभ होगा और इस राज्य का कोई भी युवा कभी बेरोजगार नहीं रहेगा.

क्या और कैसे होती है Online Exam

आजकल तो पूरी दुनिया ही ऑनलाइन हो गई है जिसकी वजह से अब हमे किसी भी तरह का कोई भी काम करना हो उसे ऑनलाइन ही करना पड़ता है और यही नहीं बल्कि अब तो हमें जॉब करना हो या जॉब के लिए एग्जाम देना हो दोनों के लिए ही ऑनलाइन होना आवशयक होगया है जी हाँ जॉब के लिए एग्जाम हो या फिर Competitor एग्जाम हर जगह पर ऑनलाइन पैटर्न चल रहा है 

वैसे कई ऐसे लोगो है जो यह तो जानते है की आज कल सारी एग्जाम ऑनलाइन होने लगी है परन्तु यह नहीं जानते है की यह ऑनलाइन एग्जाम होती क्या है और कैसे होती है अगर आप को भी नहीं पता है तो आज हम आप लोगो को बताने जा रहे है की यह ऑनलाइन एग्जाम क्या होती है.  

क्या है Online Exam 

ये exam किसी भी तरह के कागज या कलम से नहीं होती है बल्कि कंप्यूटर के द्वारा दी जाती है जिसमे एग्जाम स्टार्ट होने के 15 मिनट पहले ट्युटोरियल से एग्जाम के नियम बताएं जाते है उस के बाद में एग्जाम स्टार्ट होती है इस मे कंप्यूटर और माउस की हेल्प से ही प्रश्नों के उत्तर दे सकते है.

लिखित एग्जाम से अलग

लिखित एग्जाम के लिए आप को बुकलेट दी जाती है लेकिन ऑनलाइन एग्जाम में न आपको कोई बुकलेट दी जाती है और न ही कोई लिखित प्रश्न पत्र यानि की ऑनलाइन एग्जाम में आपको कंप्यूटर के सामने बैठकर एग्जाम देना होती है जैसे की आप पहले लिखित रूप में एक पेपर के द्वारा एग्जाम देते थे ठीक उसी प्रकार से कंप्यूटर में भी आपको एक पेपर दिया जाएगा जिसे आपको कंप्यूटर में ही उस पेपर को हल करना होगा.

ऑनलाइन एग्जाम कैसे दे

ऑनलाइन एग्जाम टाइम में सबसे पहले आप को किबोर्ड और माउस की हेल्प से अपना रोल नंबर और पासवर्ड टाइप करना होगा फिर उस के बाद में वैब कैमरे से आपकी फोटो मैच करनी होगी और यदि इस काम में कोई रूकावट होती है तो विषक की हेल्प ली जा सकती है इस के बाद में आप को एग्जाम देने के लिए माउस से उचित स्थान पर क्लिक करना होगा फिर कंप्यूटर की स्क्रीन पर और प्रश्न एवं आप्शन आने शुरू हो जाते है.

स्टूडेंट्स को सही आप्शन को चुनकर माउस की हेल्प से सेलेक्ट करना होता है फिर अगले प्रश्न के लिए स्क्रीन पर नेक्स्ट का बटन भी दिया जाता ही और यदि स्टूडेंट्स चाहे तो आप्शन में चेंजिंग भी कर सकते है इस के अलावा आपके कंप्यूटर में टाइमिंग सिस्टम भी होता है जिससे आप पता कर सकते है की आपके पास कितना टाइम ओर बचा है जब आपकी एग्जाम समाप्त हो जाती है तो आपको माउस से उचित स्थान पर सेलेक्ट करना होता है फिर एग्जाम समाप्त हो जाती है.

अपने पार्टनर को संतुष्ट करने के लिए अजमाए ये तरीके

आज कल में इलेक्ट्रॉनिक युग हर कोई बहुत तेज हो गया है और जो बाते एक वयस्क अवस्था में जानना चाहिए या करना चाहिए ऐसी चीजे युवा अवस्था में ही शुरू हो जाती है चाहे लड़का हो या लड़की हर किसी को सेक्स के बारे में जानने की बड़ी उत्सुकता होती है. जैसे ही उत्सुकता इच्छा में बदलती है हर कोई इसे करना अजमाना चाहता है. तो आईये जाने क्या करना चाहिए सेक्स के दौरान जिससे लड़की-लड़का या महिला-पुरुष दोनों को आनंद मिले.

टाइम –

सेक्स में टाइम का बड़ा महत्व होता है इसलिए सबसे पहले सेक्स को फोरप्ले से शुरू करे , किस करना , छूना, मस्ती करना और कोशिश करना के लड़की उत्तेजित हो जाये.

उत्तेजना –

उत्तेजना एक ऐसी स्तिथि है जिसे कोई रोक नहीं पता है इसलिए जैसे ही दोनों उत्तेजित अवस्था में हो सेक्स शुरू कर दे.

स्पीड –

सेक्स का मतलब न तो स्पीड से है न ही टाइम से है बस आराम से सेक्स करे और जब दोनों सतुष्ट होने लगे सेक्स को ख़तम कर दे.

कपडे का उपयोग –

सेक्स के दोरान एक सूती कपडा अपने पास रखे, जब आपको गिला महसूस हो तो साफ करके सुखा ले.

लसन का उपयोग –

सेक्स से आधे घंटे पहले एक लसन की कलि खा ले और अच्छे से ब्रश कर ले आपको सेक्स का आनंद आ जायेगा.

सेक्स के दौरान या सेक्स से 20 मिनट पहले कभी बाथरूम न जाये और अगर जाना ही चाहते है तो सेक्स के 30 मिनट पहले बाथरूम कर ले.

जब भी आपको ऐसा लगे के आप खली होने वाले है, थोडा रुक जाये और बाते करिए कुछ समय बाद आप फिर से शुरू कर सकते है ऐसा हर बार करे जब तक की आपको सतुष्टि न हो जाये. इन तरीको को अपना कर आप अपनी सेक्स लाइफ खुबसूरत बना सकते है.

12th के बाद करे ये कोर्स कर सकते है अच्छी कमाई

12th की एक्सम हो जाने के बाद में हर स्टूडेंट्स के दिमाग में एक ही बात चलती रहती है की वह आगे अब क्या करे खास कर के उन स्टूडेंट्स के लिए एक बड़ी प्रॉब्लम बन जाती है जिनका पढाई में कोई दिमाग नहीं लगता है या उन स्टूडेंट्स के लिए जिनका एक साल तक पढाई करने का कोई मन नहीं होता है उन्ही के लिए आज हम कुछ ऐसे कोर्स लेकर आइये है जिसके लिए पढाई की कोई जरुरत नहीं होती है और वो computer के ये 10 कोर्सस जिनके कई लाभ है लेकिन सभी कोर्स अलग अलग टाइम के अनुसार है जैसे कोई 3 महीने तो कोई 2 महीने के लिए और यह कोर्स सिर्फ computer सिखने के लिए नहीं बल्कि इससे स्टूडेंट्स कई भी जॉब कर के बहुत अच्छी कमाई भी कर सकते है तो आइये जानते है इन कोर्सस के बारे में.

ये है वह कोर्सस

DCA (Diploma in Computer Application) DCA के इस कोर्स में आप को कंप्यूटर की सभी बेसिक चीजे सिखाई जाती है जो आज कल के टाइम में होना बहुत ही जरुरी है जैसे इंटरफेस ऑफ कंप्यूटर माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस टाइपिंग ट्यूटर, नोटपेड,इन्सटॉलेशन ऑफ बेसिक सॉफ्टवेयर, जैसे- नेरो डायरेक्शनरीस, इंटरनेट ब्राउज़र, सर्च इंजन, अकाउंट क्रिएशन, मेलिंग टेक्ट, ऑनलाइन बैकिंग।

2. Accounting course

इस कोर्स को करने के लिए आपके पास में computer का बेसिक नॉलेज होना बहुत ही आवश्यक होता है क्योकि इस कोर्स में बिजनेस से जुड़े ट्रांजेक्शन कंप्यूटर में कैसे किये जाते है यह सिखाया जाता है इस कोर्स में आपको टैली सीखना होता है जोकि आज के टाइम में हर जगह पर मांगा जाता है इस कोर्स को सिखने मे 45 दिन लगते है.

3.  Graphic designing

इस कोर्स को हम आर्ट ऑफ़ कम्युनिकेशन भी कह सकते है यह केवल 3 महीने का कोर्स होता है जिसे करने के बाद में ही आप कही भी जॉब कर सकते है ग्राफिक डिजाइनिंग के द्वारा विजिटींग कार्ड्स, ब्रोशर, पेंप्लेट्स, फ्लेक्स, बैनर, एडवरटीजमेंट, कॉमिक्स, बुक्स, आदि तैयार किये जाते है.

 4. वेब डिजानिग कोर्स

आप रोजाना ही इंटरनेट का यूज़ तो करते ही होगे और उसमे जो चीजे आपको चाहिए होती है उसे सर्च भी करते होगे सर्च करने के बाद में जो पेज आपके सामने ओपन होता है वो पेज वेब डिजानिंग किया हुआ होता है उसे वेब डिजानिंग कहते है. जिसे सिखने में 3 महीने लगेगे

5.  डिजिटल एलबम डिजाइनिंग कोर्स

इस कोर्स के द्वारा किसी भी प्रकार की एलबम तैयार की जा सकती है और आजकल इस चीजे को लोग बहुत ही ज्यादा पंसद कर रहे है पहले की तरह शादी की एलबम में सिंपल फोटो कोई पंसद नहीं करता है इस कोर्स को करने के लिए आपको फोटोशॉप, फ्लेश स्लाइड शो मेकर को प्रोफेशनल, पिकासा, फोटो ड्रीम कोर्स करना होता है इसे करने में 2 महीने लगते है.

 6. वेब डेवलपमेंट कोर्स

इस कोर्स में सिखाया जाता है की किस तरह से वेबसाइट को बनाया और मेंटन किया जाता है इस में वेब डेवलपर को वेब site डिज़ाइन करने से लेकर वेब स्क्रिप्ट भी लिखाना होता है जैसे PHP और ASP वेब डेवलपमेंट करना होता है इसकी अवधि 3 महीने की है .

 6. 2डी/3डी अनिमेशन कोर्स

यदि आप को किसी क्रिएटिव फील्ड में कोई रूचि है तो अप के लिए यह कोर्स बहुत ही अच्छा साबित होने वाला है क्योकि अनिमेशन में किसी भी तरह के केरेक्टर की पहल को दिखाने के लिए उसकी हर एक स्टेप की फोटो बनाना होता है जिसके लिए आपको फोटोशॉप, विजुएल डिजाइनिंग, कार्टून ड्रॉइंग, लाइट बॉक्स एनिमेशन इसे सिखने में आपको 3 महीने लगते है .

 7. डिप्लोमा Video Editing

वीडियो एडीटिंग का मतलब यह नहीं की आप को केवल दो वीडियो को काट बस जोड़ना है बल्क़ि उसका मतलब  होता है की एक बार फिर से उस वीडियो को आपको बनाना है और यह कोर्स करने के बाद में तो आपको टीवी चैनल ,न्यूज़ चैनल आदि में जॉब मिल सकती है इसे सिखने में आपको 3 महीने लगेगे है.

8. डिप्लोमा साउंड रिकॉर्डिंग/एडिटिंग/डीजेइंग

सोंग सुनना तो हर किसी को पंसद होता है लेकिन उसमे अपना करियर बनाने के बारे में बहुत ही कम लोग जानते होगे जिसके बारे में हम आपको बताता रहे है डिप्लोमा साउंड रिकॉर्डिंग का कोर्स करने के बाद में स्टूडेंट्स अपना करियर न्यूज़ चैनल,टीवी,फिल्म प्रोडक्शन में अच्छा करियर बना सकते है जिसे सिखने में महज़ 3 महीने लगते है.

 9.क्रिएटिव प्रजेंटेशन कोर्स

अपनी बात को किसी क्रिएटिव तरीके से कहना यह फिर विजुअल तरीके से दिखाना एक कला है जिसमे लोग कम टाइम और कम बात में अपनी बात को कहा सकते है उसके लिए भी कई कंपनीयां केवल प्रजेंटेशन करने के लिए भी लोगो को हायर करते है इस लिए यह कोर्स में बहुत अच्छा हो सकता है आपके लिए जिसे सिर्फ 3 महीने में ही सिखा जा सकता है.   

एक राज्य जहां लडकियां Nursery से लेकर PHD तक की पढाई कर सकती नि:शुल्क

एक जमाना हुआ करता था जब लडकियों के पढने पर कई तरह के रोक लगाई जाते थे . जिसका कारण कभी गरीबी तो कभी उसकी लड़की होने की वजह बन जाता था जिसके कारण उसे घर से बाहर जाने की अनुमति भी नहीं मिलती थी और एक आज का दौर है जहां पर लडकियां पढाई ही नहीं बल्कि जॉब भी करती है. उसी बात को बढावा देने के लिए हमारे देश में शिक्षा का स्तर दिन पर दिन बढता जा रहा है लेकिन अभी भी हमारा देश शिक्षा के मामलें उस चोटी तक नहीं पंहुच पाया है जोकि हमारे देश को चाहिए.

वैसे तो हमारे भारत देश में शिक्षा पहले से काफी अच्छी हो गई है. लेकिन आज भी ऐसे कई राज्य और गांव है जहाँ पर लडकियों की पढाई को लेकर बेहद कमी देखने को मिलती है और इसके अनुसार हर साल हम रिपोर्ट में देखते है तो लगता है की लडकियों की पढाई के लिए जितनी भी कोशिश की जाए वो कम ही है परन्तु आज हम आप लोगो को एक ऐसे राज्य के बारे में बताने वाले है जहां पर लडकियों को Nursery से लेकर PHD तक की पढाई बिल्कुल नि:शुल्क है तो आइये जानते है आज उस राज्य के बारे में.

वास्तव में हमारे भारत देश के राज्य पंजाब में रहने वाली लडकियों के लिए यह बहुत ही गर्व की बात है की पंजाब की सरकार ने लडकियों की पढाई को ध्यान में रखते हुए बेहद ही एहम कदम उठाया है जी हाँ जिसे सुन कर आप भी पंजाब पर गर्व करने लगेगे क्योंकि पंजाब की सरकार ने लडकियों के लिए सभी सरकारी स्कूलों और कॉलेजों में Nursery से लेकर PHD तक की पढाई बिल्कुल फ्री कर दी है दरअसल पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिदर सिंह की सरकार ने अपना सबसे पहला बजट तैयार कर लिया है जिसमें सबसे पहले लडकियों की पढाई पर विशेष ध्यान दिया गया है जिसमे लडकियों को फ्री शिक्षा प्रदान की जाएगी .

केवल यही नहीं इसके साथ ही उन्हें टेक्स्टबुक भी दी जाएगी जोकि अगले एकेडेमिक सत्र से लागूं किया जायेगा इसके अलावा किताबो को online उपलब्ध करवाई जाएगी जहां से स्टूडेंट्स इन्हें फ्री में डाउनलोड कर सकते है. 13 हजार प्राइमरी स्कुलो और 48 कॉलेजों में फ्री wi-fi की सर्विस भी उपलब्ध रहेगी 2011 के अनुसार पंजाब में लडको की शिक्षा की दर 80.84% है और लडकियों की 70.44% है इस लिए पंजाब सरकार का लडकियों के लिए Nursery से लेकर PHD तक की पढाई फ्री में करने का फैसला प्रशंसनीय है.

एक्सीडेंट दिलाएगा ऑफिस से छुट्टी

जीवन जीना है तो बचपन में ही जी लो क्यों की जवानी कमाने में निकल जायेगी और बुडापे में आप लाचार हो जायेगे. आपके पास सिर्फ एक ही ऑप्शन बचता है की जीवन के फुल मजे तो सिर्फ बचपन में ही है. जवानी में सिर्फ हमारी जिन्दगी भाग दोड में ही निकल जाती है. परिवार चलाने के लिए आफिस से घर और घर से ऑफिस बस यही जिंदगी रह जाती है. कभी कभी तो स्थिति ऐसी बन जाती है की जब बच्चे सोये रहते है तभी ऑफिस निकल जाते है और शाम को बच्चो के सोने के बाद ऑफिस से घर आते है. बच्चों से बात करे बिना ही हम एक घर में ना जाने कितने दिन तक रहते है.

ऐसी स्थिति में यदि आपका मन ऑफीस जाने का नहीं है लेकिन समझ नहीं आ रहा है की बॉस को कैसे मना करे आखिर क्या बहाना बनाये. जब आपका ऑफिस जाने का मन ना हो तो आप बिंदास रहे और हमारे द्वारा बताये गए इस बहाने को आजमाने आपका बॉस आपको छुट्टी देने से मना नहीं कर सकता है. इसी बहाने आप अपने परिवार को समय तो दे सकेंगे साथ ही आप अपने बच्चो पर भी ध्यान दे सकेंगे. सबसे अच्छा और बढ़िया बहाना होता है तबियत का जैसे

तबियत खराब होना :
यदि आपको छुट्टी चाहिए और आप चाहते है की आपका बॉस आपको छुट्टी के लिए मना नहीं करे तो आप अपनी तबियत का बहाना बना कर छुट्टी ले सकते है. इस बहाने में आपका बॉस आपको कभी भी मना नहीं करेगा.

बच्‍चे की बीमारी :
जो व्यक्ति शादी शुदा है उन्हें छुट्टी लेने के लिए ज्यादा म्हणत नहीं करनी पड़ती वह केवल अपने बच्चो की तबियत का झूठा बहाना बनाकर छुट्टी ले सकते है. बच्चो की तबियत का बहाना बनाने से कोई भी आपको छुट्टी देने से मना कर सकता है.

अपॉइंटमेंट :
आज के ज़माने में सभी को पता है की वकील से मिला जा सकता है किन्तु डॉक्टर से मिलना काफी कठिन होता यहीऐसे में यदि आप डॉक्टर से मिलने का अपॉइंटमेंट का बहाना बनाते है तो आपको छुट्टी मिल जाएगी.

दुर्घटना :

यदि आपका ऑफिस जाने का मन नहीं है तो इतना तो बनता ही है आप कह सकते यही की ऑफिस आते समय रास्ते में मेरा एक्ससीडेंट हो गया. लेकिन ध्यान रहे बहाना सीर्फ छोटी मोटी चोट का ही बनाना. नहीं तो आपका बॉस आपको देखने के लिए आपके घर भी आ सकता यही और आपकी पोल खुल सकती है,

रिश्‍तेदार की मोत :
अधिकांश कई लोग किसी भी रिश्तेदार की मोत का झूठा बहाना बनाकर छुट्टी ले लेते है. आप भी अपनी छुट्टी मंजूर कराने के लिए इस तरह का बहाना बना सकते है.

सरकारी काम :
आज के ज़माने के सभी व्यक्तियों को पता है की आज के ज़माने में सरकारी काम के लिए कितने पापड़ बेलने पड़ते है. हर कोई इन कामो में कभी न कभी उलझता है. तो आप छुट्टी के लिए सरकारी काम का बहाना बना सकते है.

हवाई जहाज में बेठना है तो चाहिए सिर्फ 1,111 रुपये

घरेलु उड़ानों पर कंपनिया बड़े – बड़े ऑफर दे रही है और इसी कड़ी में आज जेट एयरवेज  ने भी एक प्रमोशनल ऑफर की घोषणा कर दी. जेट एयरवेज अपनी घरेलु उड़ानों पर भारी छुट दे रही है आप सिर्फ 1,111 रुपये देकर हवाई सफ़र कर सकते है.ये ऑफर आज 7 जून से 9 जून तक के लिए है.

अगर आपको भी कम पैसो में हवाई जहाज की शेर करना है तो आप भी जेट एयरवेज की साईट पर जाकर 7 से 9 जून के बीच में बुकिंग कर सकते है.ये ऑफर सिर्फ इकोनोमिकल क्लास के लिए है ,आपको ये यात्रा 27 जून से 20  सितम्बर के बीच में करना होगी .

जेट एयरवेज ने अपने ऑफर में कहा है की इसके नियम और शर्ते  इस प्रकार से होगे  तारीख में बदलाव, फ्लाइट में बदलाव, रिफंड चार्जेज, वीकेंड सरचार्ज, ब्लैक आउट पीरियड आदि में कंपनी कभी भी बिना सूचना के परिवर्तन कर सकती  है.जिसके सारे अधिकार कंपनी के पास रहेगे.यात्रा के लिए बुकिंग 7 जून से 9 जून के बीच करवाना होगी और यात्रा 27 जून से 20 सितम्बर के बीच करनी होगी.  

 

12999 रुपये में कार घर ले जाईये जाने कैसे

आप सभी लोग जो चाहते है कार खरीदना तो फिर जल्दी कीजिये सिर्फ 12999 रुपये के डाउन पेमेंट पर आप रेनो क्विड घर ला सकते है और इसकी EMI भी बहुत कम है .मतलब अब आप सिर्फ बाइक के बराबर  डाउन पेमेंट पर और आसन सी EMI पर कार घर ला सकते है .इस ऑफर का फायदा आप एक्सिस बैंक और महिंद्रा फाइनेंस से ले सकते है . तो जल्दी करे ऑफर सीमित समय के लिए है . कार से जुडी हुई सारी जानकारी और लोन के बारे में पेमेंट की डिटेल निचे विस्तार से दी गई है .

निचे दी गयी टेबल में जाने कैसे ले सकते है आप रेनो क्विड , अलग अलग मॉडल की क्विड का डाउन पेमेंट और EMI

अगर आप अपनी लोन राशी कम समय में चुकाना चाहते है तो देखे ये टेबल 

अगर आप सबसे कम EMI देकर कार लाना चाहते है तो देखे ये टेबल 

अगर आप कम समय में जादा राशी चुकाना चाहते है तो देखे ये टेबल 

इस ऑफर की जानकारी एक न्यूज़ पोर्टल से ली गई है अधिक जानकारी के लिए आप सम्बंधित शाखा पर जाकर मिले .धन्यवाद् 

यदि आप है 10वीं पास तो बन सकते है पेट्रोल पंप के मालिक

हमारे जीवन में कई तरह के उतार चढ़ाव आते है जिन्हे हम अपनी ताकत बनाते हुये सफलता की सीडी पर चढ़ते है. जब भी कोई व्यक्ति व्यापार करने की सोचता है तो उसके मन में सिर्फ एक ही सवाल आता है की वह किस व्यापार को चुने आखिर क्या बिजनेस करे ताकि उसे आगे चलकर इस बात पर अफ़सोस न हो की मेने यह बिजनेस क्यों शुरू कर दिया. सपने तो बड़े बड़े होते है किन्तु कई तरह की परेशानिया हमें बड़ा बिजनेस करने की इजाजत नहीं देती. जैसे आपकी क्वालिफिकेशन.

व्यक्ति यदि सोचता हैं की उसकी पढ़ाई कम होने से वह बड़ा कारोबार या बिजनेस नहीं कर सकता है तो आप गलत सोच तरहे है सरकार ने आपकी सुविधा के लिए अपने नियम में बदलाव करते हुए नए नियम बनाये है जिसके चलते यदि आपकी पढ़ाई कम भी है तो भी आप पेट्रोल पम्प या गैस एजेंसी डीलर बन सकते है. और इसके साथ ही सरकार ने इसके लिए अपनी समय सिमा को भी बड़ा दिया है. अब देर किस बात की अब अब भी बन सकते है पेट्रोल पम्प या गैस एजेंसी डीलर.

सरकार ने ऑयल मिनिस्ट्री के नियम में बदलाव करते हुए नए नियम बनाये है जिसके चलते आपको अब बिजनेस शुरू करने के लिए किसी भी तरह से हाई एजुकेशन की आवश्यकता नहीं है. सरकार के नए नियम के अनुसार यदि आप दसवीं पास है तो आप पेट्रोल पम्प और गैस एजेंसी डीलर बन सकते है. इससे पहले के नियम अनुसार यदि आपको गैस एजेंसी डीलर बनना होता था तो आपको ग्रेजुएशन कम्प्लीट करना अनिवार्य था. लेकिन नए नियम में सरकार ने बदलाव करते हुए अब दसवीं पास भी डीलर बन सकता है.

10 वी पास का होगा पेट्रोल पम्प :

पेट्रोल पम्प के लिए आपको पहले क्वालिफिकेशन में ग्रेजुएशन होना आवशयक था लेकिन अब आपको इसके लिए ज्यादा मेहनत करने की आवश्यकता नहीं है. अब दसवीं पास भी इसके योग्य है.पेट्रोल पम्प के लिए पुराने नियम आपको विशेष बैंक में डिपॉजिट करना आवश्यक था लेकिन अब आप किसी भी बैंक में डिपॉजिट जमा करा सकते है.

उम्र : पहले नियम अनुसार यदि आपको डीलर शिप के लिए आवेदन करना होता था तो आपकी उम्र 21 से 45 की होनी चाहिए. लेकिन अब आप 60 साल की उम्र तक आवेदन कर सकते है.

बनाइये अपनी त्वचा को खुबसूरत और जवां

इस गर्मी के मोसम में तेज धूप से हर कोई परेशान है गर्मी की वजह से आपका ग्लो जेसे गायब हो जाता है.साथ ही त्वचा मुरझाई और ऑयली सी हो जाती है.इसी वजह से ना जाने हम कितने ही अलग अलग तरह के ब्यूटी क्रीम और पार्लर में पैसे खर्च करते है.लेकिन ये सिर्फ हमारी खुबसुरती को कुछ समय के लिए ही बनाये रखती है.आज हम आपको कुछ ऐसी चीजो का उपयोग बताएँगे जो आपकी स्किन को केवल बाहर से ही नही बल्कि अन्दर से भी जवा और ग्लोइंग बनाती है वो भी सिर्फ कुछ सप्ताह में.

नींबू :-
हम सब अच्छे से जानते है की हम जो भी खाते है उसका सीधा असर हमारे चेहरे पर दिखाई देता है.सिर्फ कुछ हफ्तों में कोई भी सुन्दर चेहरा पा सकता है. इसके लिए हमे रोजाना सुबह गर्म पानी में नींबू निचोड कर पीना चाहिए. इससे हमारा पाचन तंत्र अच्छे से काम करता है और सलाद के ऊपर भी नींबू निचोड़ कर खाए. जिससे आपका चेहरा और भी निखरेगा.

शकरकंद :- 
शकरकंद एक ऐसा फल है जो ना सिर्फ आपकी त्वचा बल्कि आपके बालो और नाखुनो की ग्रोथ को भी बढाता है इसमें मोजूद बीटा-केरोटीन आपकी स्किन को चमकदार बनाता है और ऐसा इसलिए होता है क्योकि इसमें विटामिन ए और सी बहुत अधिक मात्रा में पाए जाते है.

बादाम :-
बादाम से होने वाले लाभो से हम अनजान नही है लेकिन क्या आप ये जानते हो की बादाम में पाया जाने वाला विटामिन ई की वजह से बादाम को ब्यूटी फ़ूड भी कहते है. विटामिन ई सूरज की यूवी किरणों से बचाता है साथ ही चेहरे की कोमलता बनाये रखता है और झुर्रियों को भी आने से रोकता है.

पालक :-
पालक में विटामिन ए और सी की प्रचुर मात्रा होती है जो हमारे शरीर के लिए अत्यंत जरुरी होती हैं. पालक में मौजूद विटामिन ए और सी हमारे बालो और त्वचा के लिए भी बहुत लाभदायक होता है.

Resume है आपकी बेरोजगारी का कारण

जब हम किसी  कम्पनी में जॉब के लिए जाते है तो सबसे पहले हमारा रिज्यूमे मांगते है. लेकिन क्या आपने इस बात पर कभी ध्यान दिया है जब आप कपंनी में अपना रिज्यूमे देते है तो वह महज छः सेकेण्ड में ही आपको हां या ना का जवाब दे देते है. क्यों की जब कोई कम्पनी किसी पोस्ट के लिए आवेदकों के रिज्यूमे मांगती है तो कम्पनी एक पोस्ट के करीब 75 आवेदकों के रिज्यूमे देखती है. जिसमे उन्हें यह पता करना होता है की उन पोस्ट के लिए कौन सही है और कौन नहीं.

अक्सर हम अपने रिज्यूमे में ऐसी गलती कर देते हैं जो हमें भविष्य में पछतावे के आलावा और कुछ भी नहीं देती ही. इस लिए ध्यान रहे की अपने रिज्यूमे में केवल वही चीजे लिखे जो सामने वाले व्यक्ति को अटैक्ट कर सके. आज हम आपको बताएँगे की आप अपने रिज्यूमे में किन चीजों को रखे और किन चीजों को नहीं. रिज्यूमे में जो चीजे काम की नहीं है उन्हें हटा देना ही उचित होता है, नहीं तो वह आपके सिलेक्शन में बाधा बन सकते है.

Work Experience : यदि आपने पहले किसी कार्य को कर Work Experience लिया है लेकिन वह Experience किसी काम का नहीं हैं तो हमें अपने रिज्यूमे में से हटा देना चाहिए. क्यों की जरुरी नहीं है की आप जिस जगह काम करते थे वह काम आप यहाँ भी करे. यदि वह उस पोस्ट के लिए उपयुक्त नहीं है तो आप उस अपने रिज्यूमे से हटा दे.

गलती सुधारे : जब आओ किसी कम्पनी में जाते है तो वह आपको कोई पहचानता नहीं है आपकी पहचान होती है आपके रिज्यूमे से. आपकी पर्स्नालिटी से ले कर आप काम के प्रति कितने सीरियस है सब कुछ आपके रिज्यूमे से पता चलता है. यदि आपके रिज्यूमे में किसी तरह की कोई गलती होती यही तो इम्प्लॉयर यही सोचता है की आप अपने काम के प्रति किसी भी तरह से सीरियस नहीं है.

फेसबुक भाषा : अपने रिज्यूमे में किसी भी तरह की दुसरी भाषा का पर्योग ना करे. यदि आप सोशल मिडिया की भाषा you को u लिखे तो आप बहुत बड़ी गलती करते है चाहे आप किसी भी कम्पनीँ में जॉब के लिए जाए वहा पर कभी भी अपने रिज्यूमे में इस तरह की भाषा का प्रयोग ना करे.

जूठे दावे : रिज्यूमे में कभी भी अपनी योग्यता को बड़ा टाडा कर नहीं बताना चाहिए. क्यों की जब वह प्रेक्टिकल आपसे कुछ करवाएंगे तो आप बुरी तरह से फस जायेंगे.

छोटा रिज्यूमे : जहा तक कोशिश हो तो यह तय करे की आप जितने कम शब्दों में अपनी काबिलियत  को बताएंगे आपके लिए उतना ही अच्छा है. आपकी सभी बातो को बड़ा चढ़ा कर ना लिखे.

पर्सनल जानकारी : अपने रिज्यूमे में आप किसी भी तरह की कोई धार्मिक एक्टिविटी के बारे में ना लिखे. और ना ही किसी सोशल काम कि बाते लिखे . जरुरत होने पर आप उन्हें बता सकते है

हॉबी : इस से आपकी कम्पनी को कोई फर्क नहीं पड़ता है की आप क्या पसंद करते है और क्या नहीं?

ऐ भाई मेरा पैसा वापस कर दें…..

आम आदमी की एक कहावत काफी मशहूर है कहते है उधर पैसा दे दो और भूल जाओ . क्यों की जब हम किसी को उधार पैसे देते है तो उससे अपनी उधारी का पैसा मांगना मानो शेर के मुँह से शिकार को खींचना और यह हर कोई नहीं कर सकता है. यदि हमने किसी दोस्त या रिश्तेदार को पैसे दिए है तो उससे उधारी वापस चुकाने के लिए क्या किया जाए जी वह उधार भी चूका दे और रिश्ता भी ना टूटे.

कई बार हम किसी को मुसीबत में उधार पैसे क्या दे देते है मानो जैसे हमने किसी घायल शेर से पंगा ले लिया हो. जब भी हम अपना पैसा मांगने जाए तो वह शेर की तरह अकड़ कर जवाब देते. खा जायेंगे क्या. भाग जायेंगे क्या. मर तो नहीं जाऊँगा जैसे शब्दों एक इस्तेमाल करते है. लेकिन हम डरते है की कही रिश्तो में किसी तरह की कोई दरार नहीं आये. पर फिर भी हमारा पैसा वापस नहीं आता है. आज हम आपको बताएँगे की किस तरह आप अपना उधारी का पैसा भी वापस पा सकते है और रिश्तेदारी भी वही रहे. व्यक्ति उधार लेते समय बकरी होता है , उधार देते समय शेर बन जाता है.

स्थिति को समझे :
यदि आपके दोस्त ने आपको पेसे लोताने की तय सीमा बताई है और समय पर वह पेसे लोटा नहीं पाया है तो इस बात की जानकारी ले की कही वह किसी परेशानी में तो नहीं है यदि है तो आप खुद ही उसे समय देने के लिए उसके पास चले जायेंगे. ऐसा करने पर आपका दोस्त आपको जल्द पेसे लोटा देगा .

मज़बूरी बताये :
यदि आपका उधारी का पैसा आपको नहीं मिल रहा है तो आप सबसे पहले अपने दोस्त के पास जाए और उसे अपनी परेशानी बताये की आपको पेसो की कितनी जरुरत है. और यदि आपको पैसे नहीं मिले तो आपको कितना बड़ा नुकसान हो सकता है . ऐसा करने पर आपको आपका पैसा मिल सकता है.

किश्त :
यदि यह सब करने के बाद भी आपका दोस्त आपको पैसे नहीं देता है तो आप उसे अपने अनुसार किश्त में भी पैसे चुकाने की बात रख सकते है

परिवार या दोस्तो का सहारा :
यदि आपके उधारी के पैसे वापस नहीं आ रहा है तो आप अपने परिवार और दोस्तों का सहारा क्ले सकते है. आप उनके द्वारा अपने उधारी के पैसे लौटने की बात कह कर अपनी समस्या उन्हें बताये ताकि वह आपके दोस्त को पैसे देने के लिए कह सके.

इस तरह हुई महान लोगो की मृत्यु

हमारी धरती पर जन्म लेने वाले महान पुरषों का नाम आज भी इतिहास में सुनहरे अक्षरों में दर्ज है. उन महान पुरषों ने अपने जीवन मेंकई तरह के बड़े बड़े काम कर अपना नाम उचा किया है. आपने इनके जन्म के तो कई किस्से सुने होंगे लेकिन क्या अप जानते है की इन महान पुरषों की मृत्यु किस तरह से हुई. शायद आज भी ऐसे कई व्यक्ति होंगे जिन्हे इस बात की जानकरी नहीं है की इन महान पुरषो की मृत्यु का क्या कारण था किस तरह से इनकी मृत्यु हुई है. आज हम आपको बताएँगे की किस तरह इन महान पुरषो ने अपनी अंतिम सास ली. और हमें हमेशा के लिए अलविदा कह दिया.

स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekananda) :

स्वामी विवेकानंद का नाम आज भी सभी की जुबा पर है. जब भी विवेकानंद की बात होती है तो मन में शिकागो का वह भाषण आज भी याद आ जाता है. सब के दिलो में बसने वाले को ही दिल की बीमारी लग गई और हार्ट अटैक में दुनिया को अलविदा कह गए.

कबीर दास (Kabir) :

कबीर दास एक क्रांतिकारी कवि थे. जिसमे अपनी हर पंक्ति में क्रांति की भावना होती थी. थोड़े जिद्दी किस्म के व्यक्ति थे. जब उनका अंतिम समय आया तो वह मगहर चले गए और अपना अंतिम क्षण वही पर बिताया लेकिन उनके मारने के बाद भी लोगो में आक्रोश था. जब वह अंतिम बार विदा हुए तो हिन्दू मुस्लिम आपस में लड़ने लगे की यह हमारे है यह हमारे है.

अकबर (Akbar) :

मुगल साम्राज्य के सबसे बड़े और पराक्रमी बादशाह अकबर काफी फेमस थे. अपने राज में अकबर ने जनता को धार्मिक कार्यो के लिए आजादी दे रखी थी. अकबर जनता के लिए सदैव तत्पर रहते थे. कभी भी की भी यदि सहायता मांगने आते तो अकबर उनकी सहायता अवश्य करता था. अंत समय में अकबर को पेंचिश की बीमारी लग गई.जो उन्हें मोत के मुँह में ले गई.

बीरबल (Birbal) :

अकबर और बीरबल के नायाब किस्से बच्चो से लेकर बूड़ो की जुबान पर आज भी है. राजा अकबर हमेशा बीरबल की परीक्षा लेते रहते थे. कुछ भी काम होता तो बीरबल को याद किया जाता. क्यों की बीरबल का दिमाग काफी तेज था. सभी परेशानियों का सामना करने की हिम्मत सिर्फ बीरबल में ही थी. जी समय सिंधु नदी पर अफगान कबीलों ने हमला कर दिया उस समय बीरबल को लड़ने के लिए पंहुचा दिया. लेकिन युद्ध का तजुर्बा न होने के कारण वह लड़ाई में मोत की नींद सो गए. राजा को इस बात का अधिक अफ़सोस हुआ की बीरबल की लाश बी नहीं मिली. जिसके लिए बादशाह दो दिन तक भूखे रहे थे.

सिकंदर (Alexander the Great) :

छोटी सी उम्र में ही बड़े बड़े राज्यों पर अपना कब्ज़ा करने वाले सिकंदर की मोत काफी खतरनाक हुई थी. भारत में जब सिकंदर ने अपना राज करना चाहा तो उनका सामना हुआ राजा पोरससे जिनके साथ युद्ध करते हुए और राजा पोरस को बंदी बना लिया तब सिकंदर ने कहा की अब तुम्हारे साथ क्या किया जाए तब राजा पोरस ने अक्लमंदी के साथ जवाब दिया की जो एक राजा दूसरे राजा के साथ करता है वही करो इस बात से सिकन्दर खुश हो गया और राजा पोरस को सभी राज पाट वापस कर दिया. महज 32 वर्ष की उम्र में ही सिकंदर शराब के अत्यधिक सेवन से उनकी मृत्यु हो गई.

सम्राट अशोक (Ashoka) :

भारतीय मौर्य राजवंश के महान पराक्रमी और शक्तिशाली सम्राट अशोक ने अपने शासन में करीब 40 साल राज किया. जब एक दिन उन्हें एहसास हुआ की लड़ाई में कुछ भी नहीं रखा तो वह सब कुछ छोड़कर सन्यासी बन कर जंगल में चले गए. जहा उनकी मोत हो गई .

चाणक्य (Chanakya) :

चन्द्रगुप्त मौर्य के महामंत्री चाणक्य ने समाज में कई विशेष सन्देश दिए है. जिनका हम आज भी अनुसरण करते है. अर्थनीति, अर्थशास्त्र राजनीति,समाजनीति, कृषि जैसे महान गंथो के रचयिता चाणक्य के जीवन के अंतिम दिनों में भी चाणक्य की मोत काफी भयानक थी. जिस समय चंद्रगुप्त का बेटा बिंदुसार राजा था तो सुबंधु नामक एक मंत्री ने चाणक्य से दुश्मनी थी जिसका बदला लेते हुए राजा को कह दिया की उनकी माँ की मृत्यु चाणक्य की वजह से हुई थी . जब इस बात की जानकरी चाणक्य को लगी तो चाणक्य सब कुछ छोड़ कर जंगल में रहने लगे. खाना पीना छोड़ने के कारण एक दिन वह इस दुनिया को अलविदा कह गए.

सुकरात (Socrates) :

गरीब परिवार में जन्मे सुकरात ने अधिक प्रसिद्धि प्राप्त करने के साथ ही काफी विद्वान भी थे. संसार में ज्ञान का प्रसार हो इनके जीवन का यह मुख्य लक्ष्य था. लेकिन इन पर युवाओ को बिगाड़ने के साथ ही देवनिंदा और नास्तिक का दोष लगा कर इन्हे जेल में डाल दिया गया. सुकरात को जेल में जहर दे कर मारने का दंड दिया गया. जिससे उनकी मोत हो है.

अरस्तू (Aristotle) :

अरस्तू सिकंदर के गुरु और प्लेटो के शिष्य थे, लगभग सभी विषयो में दिलचस्पी रखने वाले अरस्तू का दिमांग अत्यधिक चलता था. 322 ईसा पूर्व में अरस्तू को ब्रेन हैमरेज हुआ जो उनकी मोत का कारण बना.

आप भी बन सकते है मेडिकल स्टोर के मालिक, ये है सरकार की योजना

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने आम नागरिको के लिए एक ओर योजना जन औषधि योजना प्रारम्भ की है. जिसके तहत आम नागरिक बाजार भाव से 60 से 70 प्रतिशत कम कीमत पर दवाइया ले सकता है. मोदी ने इस योजना की घोषणा 1 जुलाई 2015 को की थी तब से ले कर अब तक कुल 1011 स्टोर खोल चुके है. जो युवा -फार्मा और एम-फार्मा किये हुए है वह इस योजना में अपनी सेवा दे सकते है.

यदि आप यह सोच रहे है की कम खर्चे में मुझखे कोई काम मिल जाए तो नरेंद्र मोदी की यह योजना आपके लिए बेहत कामदार साबित हो सकती है. क्यों की मोदी सरकार द्वारा चलाई जा रही जन औषधि योजना के केंद्रों का ठेका मिल सकता है. इसके लिए आपको महज दो लाख रूपये खर्च करने की आवश्यकता है. नियम के अनुसार पहले सिर्फ यह योजना चुनिंदा संस्थाओं तक ही सिमित थी. लेकिन अब कोई भी कारोबार करने के लिए फार्मासिस्ट या डॉक्टर जन औषधि स्टोर का मालिक बन सकता है. जन औषधि योजना के अंतर्गत केंद्रों पर बिकने वाली दवाइयों पर 16 प्रतिशत कमीशन दिया जाता है.

कौन बन सकता है मालिक :
जन औषधि केंद्र को कोई भी खोलने के लिए आवेदन कर सकता है. इस योजना की खास बात यह है की यदि आप एससी, एसटी, एवं दिव्यांग है तो आपको 50,000 रूपये तक की दवाइयां जन औषधि केंद्र खालने के लिए पहले से ही दी जाएँगी.

सहायता :
सभी दवाइयों पर प्रिंट कीमत से 16 प्रतिशत का लाभ .
वन टाइम वित्तीय सहायता दो लाख रूपये तक.
एक साल की दवाइया सेलिंग का 10 प्रतिशत प्रॉफिट आपको दिया जायेगा. जो प्रतिमाह 10 हजार रूपये महीने होगा.
आदिवासी क्षेत्र में सेलिंग का 15 प्रतिशत15000 रूपये हर महिने प्राप्त होगा.

आवेदन के लिए दस्तावेज :
सबसे पहले यदि आपको जन औषधि केंद्र खोलना है तो आपके पास 10 वर्ग मीटर का स्थान होना चाहिए चाहे वह किराये का हो. व्यक्तिगत आवेदन के लिए पेन कार्ड, आधार कार्ड की जरुरत होगी. यदि आप किसी हॉस्पिटल या चैरिटेबल संस्था में आवेदन कर रहे हो तो आपको पेन कार्ड,आधार,जीयन प्रमाण पत्र की आवश्यकता होगी.

आवेदन की प्रकिया :

फार्म लिंक http://janaushadhi.gov.in/data/GuidlinesJAS.pdf से आवेदन डाउनलोड कर इस पते पर भेजे.

General Manager (A&F),
Bureau of Pharma Public Sector Undertakings of India (BPPI),
IDPL Corporate Office, IDPL Complex, Old Delhi Gurgaon Road,
Dundahera, Gurgaon :-122016 (Haryana)

पढ़िए सम्बंधित ख़बरे

लड़किया कही भी जाए अपने साथ ये सामान ज़रूरी ले जाए!

मोदी सरकार दे रही है घर बनाने की सुविधा ऐसे करे..

ये 8 योजनायें जो बेटियों भविष्य कर देगी उज्ज्वल

क्या आप भी बिजली का बिल कम करना चाहते, तो अपनाइए…

खुशखबरी इन्फोसिस देगा 20 हजार युवाओ को नौकरी

आज कल जहाँ  हर और आईटी सेक्टर में छटनी की खबरे आ रही है वही इन्फोसिस जैसी बड़ी आईटी कंपनी ने ये एलान करके युवाओ के चहरे पर एक अच्छी कम्पनी में काम करने की उम्मीद जगा दी है ! हर कोई चाहता है की बड़ी कंपनी में जॉब करने का मोका मिले , तो फिर तैयारी में लग जाये क्योंकी इन्फोसिस अपनी कंपनी में 20,000 युवाओ की भर्ती  करने वाला है !

इन्फोसिस के सीओओ यूबी प्रवीण राव ने कहा के कंपनी में छटनी वाली बात को समाचार पत्रों में बड़ा चढ़ा कर बताया  गया है ! ये तो सिर्फ उन लोगो की छटनी की जाएगी जिनका प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है ! वो भी सिर्फ 300 से 400 लोगो की नौकरी जाएगी जो हर साल होता है और हर कंपनी में होता है !

राव ने कहा के हम तो ज्यादा से ज्यादा नौकरिया देना चाहते है ! ये बात राव और इन्फोसिस के को-चेयरमैन रवि वेंकटेशन ने सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद से शुक्रवार मिलकर करीब 30 मिनट हुई मीटिंग में कही और उन्हें ये आश्वासन भी दिया की किसी की नौकरी नहीं आयेगी बस तीन ,चार सो लोगो को  हटाया जायेगा वो भी प्रदर्शन के आधार पर और साल 2017 में लगभग 20 हजार नई भर्तियाँ की जाएगी !  

बोर्ड परीक्षाओं के रिजल्ट के बाद करें ये काम

बोर्ड परीक्षाओं के रिजल्ट जारी हो चुके है. अब हर कोई स्टूडेंट सिर्फ यही सोच रहा होगा की में कौन सा सब्जेक्ट मेरे लिए बेस्ट होगा. और सबसे बड़ी बात में कौन से कॉलेज में एडमिशन कराओ ताकि में अपना भविष्य सुनहरा बना सकू. रिजल्ट के बाद यह सभी स्टूडेंट की परेशानी होती है. लेकिन थोडा ठहरिये इतना आगे की कहा सोच रहे है जरा वर्तमान में आइये और अपने रिजल्ट के बारे तो बताइये.

जब भी किसी स्टूडेंट के बारे उसके रिजल्ट की बात करते है तो वह हमें इस कदर देखता है जैसे हमने बन्दुक दे कर बॉडर पर खड़ा कर दिया है. जब कोई दोस्त दूसरे दोस्त से उसके रिजल्ट के बारे पूछता है तो पहला दोस्त इस कदर जवाब देता है दोस्त है दोस्त की तरह रह. यह रिश्तेदारों जैसी हरकते मत कर. में तो जब भी इस तरह की बात सुनता हु तो मेरी हँसी ही नहीं रूकती. फिर आपका क्या हाल होता होगा. रिजल्ट आने के बाद हमें अपने परिवार वालो से ज्यादा रिश्तेदारों से होशियार रहना चाहिए.

कई बार तो ऐसा लगता है की हमारे रिश्तेदार हमारे रिजल्ट का ही इंतजार करते है. रिजल्ट आने के कुछ दिन पहले से ही घर आ कर बार बार मम्मी पापा को रिजल्ट के बारे में बताते है. पता नहीं रिश्तेदारों को हमसे क्या दुश्मनी होती है. जिन स्टूडेंट को कम नंबर आये है उनके लिए हम आपको बताएँगे की किस तरह आप अपने रिश्तेदारों से सतर्क रह कर घर वालो की डाट या मार खाने से बच सकते है.

रिजल्ट आने के बाद किसी भी रिश्तेदार के घर न जाए अन्यथा आपको आपके रिजल्ट पर भाषण सुनना पड़ सकता है .
किसी से भी रिजल्ट के बारे में बात न करे.
यह जरुरी नहीं है की कोई व्यक्ति आपसे अच्छे से बात कर रहा है तो वह आपके रिजल्ट के बारे में नहीं पूछेगा. इसलिए सतर्क रहे वह आपके रिजल्ट के बारे में पूछ सकते है.
याद रहे की रिजल्ट के कुछ दिनों तक बाहर कम से कम निकले नहीं तो कोई भी आपके नंबर पूछ कर आपको सबके सामने शर्मिंदा कर सकता है.
घर पर आने वालो से ज्यादा बात नहीं करे नहीं तो वह आपसे आपके रिजल्ट के बारे में पूछ सकते है .
यदि आप आपका रिजल्ट 80 प्रतिशत रहा हो तो भी रिश्तेदार कहते है की 10 प्रतिशत और ले आता तो अच्छा होता.
यदि आपका रिजल्ट खराब आया है तो माता पिता फिर भी बच्चे का रिजल्ट बड़ा चढ़ा कर बताते है लेकिन उसमे भी वह फस जाते है जैसे माता पिता कहते है 87 और आप 93 बता देते इस स्थिति में आप फस जाते है.
आपका रिजल्ट कितना भी अच्छा क्यों न आये पापा की डाट तो पक्की है.

ध्यान रहे की यदि आपका रिजल्ट ख़राब आया है तो वह आपका आखरी  रिजल्ट नहीं है आप इससे और भी अच्छा प्रयास कर सकते है. कभी भी आत्महत्या जैसी बातो को अपने दिमांग में नहीं लाना चाहिए.क्यों की आपकी जिंदगी बर्बाद करने के लिए रिजल्ट आने के बाद आपके रिश्तेदार तो आते रहेंगे.
हसते रहिये मुस्कुराते रहिये.

12 वी के छात्रो पर चली लाठियां जाने क्यों ?

बिहार का नाम कौन नहीं जानता और फिर जब बात वहा की शिक्षा की हो तो सभी को रुबी याद आती है जो 2016 की कक्षा 12 वी की बिहार राज्य की टॉपर थी . जिसे अपने सारे विषयों के नाम भी नहीं पता थे . परीक्षा के दौरान खिड़कियो में से पर्ची देना और भी बहुत कुछ है .आज हम 2016 की बात नहीं कर रहे आज बात हो रही है 2017 के कक्षा 12 वी के परिणाम की , परिणाम ऐसा की सबके होश उड़ गए क्योकि केवल 35 फीसदी बच्चे ही पास हो पाए . क्या इसका कारण ज्यादा सख्ती से परीक्षा लेना है या कोई और बात है .


यहाँ दोनों ही बाते सही है क्योकि शिक्षा बोर्ड ने परीक्षा लेने में सख्ती दिखाई मगर वही पारदर्शिता कॉपिय चेक करने में नहीं दिखाई . क्योकि 12 वी की कापिया कक्षा 8 वी में पढ़ाने वाले शिक्षको ने चेक की जो उन पड़ने वाले सभी बच्चो के भविष्य के साथ खिलवाड़ है . आखिर कब बिहार अपनी पढाई का स्तर सुधारेगा और देश को अच्छे पढ़ने वाले और मेधावी छात्र / छात्राए देगा . 12 वी 35 % परिणाम के बाद छात्रो ने शिक्षा बोर्ड के सामने धरना दे दिया जिसे हटाने के लिए पुलिस उन पर लाठियां खूब बरसाई !

टॉपर खुशबू :- बिहार टॉपर खुशबू के 86 % बने है लेकिन फिर भी वो अपने पसंदीदा कॉलेज में प्रवेश नहीं ले सकती और इसी दर्द के कारण उसका कहना है की ऐसी टॉपर किस काम की .आखिर ये गलती किसकी है , उन 12 वी के शिक्षको की जो परिणाम के समय हड़ताल पर थे , उन शिक्षको की जो 8 वी कक्षा के होते हुए भी 12 वी की कोपिया चेक की या उस बिहार शिक्षा बोर्ड की जिसने ऐसा आदेश दिया और गलत व्यक्तियों से कॉपिय चेक करवायी आप खुद ही फैसला करे . धन्यवाद

ये मछलियों खाना हो सकता है खतरनाक!

व्यक्ति के जीवन में कुछ चीजे अति महत्वपूर्ण होती है जिनके अभाव में वह जीवित नहीं रह सकता है. जैसे हवा. पानी,और भोजन. व्यक्ति यदि भोजन नहीं करेगा तो वह कुछ ही दिनों में मर सकता है. वैसे तो भोजन में आप कई तरह का नॉनवेज खा सकते है जिसमे मछली आपके लिए सबसे फायदेमंद हो सकती है. लेकिन क्या आप जानते है की मछली खाने से आप परेशानी में पड़ सकते है. वैसे तो मछलियों में वसा और विटामिन भरपूर मात्रा में होता है किन्तु कुछ मछलिया ऐसी भी है जो आपको बीमार बना सकती है.

वैसे तो शाकाहार ही सर्वोत्तम आहार है. आज समाज में शाकाहार होने के लिए कई तरह के प्रयोजन चल रहे है लेकिन जो नॉनवेज खाने के शौकीन है वह तो खाने में नॉनवेज ही पसंद करते है. उनके सामने आप कितना भी अच्छा वेज खाना क्यों न रख दो वह इसे नहीं खाएंगे. लेकिन एक बात का ध्यान रहे की कुछ मछलिया ऐसी भी होती है जिनका सेवन आपके स्वास्थ के लिए हानिकारक हो सकता है. आज हम आपको बताएँगे की कोण सी मछलिया आपके स्वास्थ पर बुरा असर डालती है.

कैटफिश :
कहा जाता है की कैटफिश मछलियों को हार्मोन्स के जरिये बड़ा किया जाता है. जो दूसरी मछलियों की तुलना में अलग होती है. हार्मोन्स से बड़ा किये जाने के कारन यह आपके शरीर के लिए हानिकारक सिद्ध होती है. जहा तक हो सके कैटफिश खाने से परहेज करे.

मकरैल :
मकरैल मछली में अत्यधिक पारा पाया जाता है और पारा हमारे शरीर के लिए हानिकारक होता है. मकरैल मछली समुद्र में पाई जाती है जिसके चलते उसमे पारा होता है. यदि हम अपने भोजन में मकरैल मछली लेते है तो हमें परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है.

टूना :
पश्चिम बंगाल में टूना मछली को भोजन में अत्यधिक उपयोग किया जाता है. समुद्री मछली होने से इस मछली में पारा अत्यधिक मात्रा में पाया जाता है जो हमारे शरीर के लिए हानिकारक सिद्ध हो सकता है.

तेलापिया :

तेलापिया मछली में कुछ ऐसे वसा पाया जाता है जो मनुष्य के शरीर के लिए हानिकारक सिद्ध होता है. यदि व्यक्ति इस तरह की मछली का सेवन करता है तो उसके शरीर में केलोस्ट्राल अत्यधिक मात्रा में बड़ जाता है. खास कर जो व्यक्ति रदय की बीमारी से ग्रसित है उन्हें इस तरह की मछली के सेवन से परहेज करना चहिये.

ईल मछली गंदे पानी में रहती है.यह मछली अमेरिकी मछली की श्रेणी में आती है. ईल मछली में अत्यधिक मात्रा में अल्कोहॉल के साथ वसा पाया जाता है.

लड़किया कही भी जाए अपने साथ ये सामान ज़रूरी ले जाए!

लड़किया जब घर से बाहर निकलती है तो अपना सभी जरुरी सामान साथ रखती है जो उनके काम में आता है. जैसे मेकअप का सामान पैसे.पर्स, मोबाईल. और भी कई ऐसे सामान होता है जिसे लड़किया हमेशा अपने पास रखने के साथ ही जब वह बाहर जाती है तो वह इन चीजों को हमेशा अपने साथ रखती है. लेकिन क्या आपको पता है की क्या यह चीजे आपके लिए इतनी जरुरी है जो आप इन्हे कही भी जाते हुए अपने साथ ले जाते है. लड़कियों से पूछा जाये तो वह इसका जवाब सिर्फ हां में ही देंगी.

लड़कियों को अपने साथ ऐसी हर एक छोटी छोटी चीजों को साथ रखना चाहिए जिनका इस्तेमाल न होने पर भी कभी भी वह काम में आ सकती है. आज हम आपको ऐसी ही कुछ छोटी छोटी चीजों के बारे में बताएँगे जिनको पास में रखना आवश्यक है. जैसे एक सेफ्टी पिन कई लड़किया यही सोचती है की हमें सेप्टी पिन की क्या आवश्यकता है. इसकी हमें कोई आवश्यकता नहीं है. लेकिन वह यह भूल जाती है की डूबता हुए को तिनके का सहारा काफी रहता है. आज हम आपको बताएँगे की किस तरह आप छोटी छोटी चीजों से अपने जीवन में आने वाली तकलीफो से बच सकते है.

सेफ्टी पिन :

लड़किया कई बार अपने साथ सेफ्टी पिन रखने में शर्म महसूस करती है उनके अनुसार सेफ्टी पिन का उनके लिए कोई इस्तेमाल नहीं है. लेकिन कभी आपका गलती से टॉप या स्कर्ट फट  जाए तो उस स्थिति में आप क्या करेंगे. सेफ्टी पिन से आप उस समय उस परेशानी से बच सकते है साथ ही सेफ्टी पिन का इस्तेमाल आप चप्पल की स्ट्रैप को भी कुछ हद तक चला सकते है. इसे आप अपने बेग में कही भी रख सकते है.

ग्लू स्टिक :

ग्लू स्टिक अपने पास रखने के कई लाभ है यदि जल्द बाजी में आपके सेंडल की हिल टूट जाये या आपके सबसे फेवरेट हार का कोई हिस्सा टूट जाये तो आप ग्लू स्टिक की मदद से उसे ठीक कर सकते है.

स्कार्फ :

आप यदि धुप में बाहर जा रहे हो तो धुप से बचने के साथ ही ट्रेवलिंग के दौरान आपके बालो का स्टाइल खराब हो जाता है तो आप स्कार्फ से उन्हें ढक कर आपके बालो को सुरक्षित रखने के साथ ही धूल मिटटी से भी बचा सकते है.

टिश्यू पेपर :

गर्मी में अधिकतर महिलाओ का मेकअप खराब हो जाता है और उनकी स्किन खराब दिखने लगती है इससे बचने के लिए आप अपने साथ टिश्यू पेपर साथ रखना चाहिए जिससे आप अपने चेहरे को ठीक तरह से केयर कर सकते है. मेकअप के फैलने से लेकर आप अपने चेहरे को धूल मिटटी से होने वाले इंफेक्शन से बचा सकते है.

सफर में पहनी साड़ी तो होगा बुरा हाल

आज से कुछ सालो पहल ही हमारे कपड़ो का सिर्फ एक ही ऑप्शन होता था. शादी हो या फिर कोई सेलिब्रेशन. सभी के लिए एक जैसे ही कपडे हुआ करते थे. किसी के पोआस इतने ऑप्शन नहीं थे की वह सभी जगह अलग अलग तरह के कपड़ो का सिलेक्शन कर सके.

लेकिन आज के डोर में ऐसा नहीं है आज के समय में आपके पास कपड़ो के सिलेक्शन के लिए काफी ऑप्शन है. जैसे शादी के कपडे, रिशेप्शन,पार्टी, घूमने के,स्वीमिंग. तक के कपडे अलग अलग आते है. सभी जगह ऍम अलग अलग कपडे पहनते है. लेकिन क्या आप जानते है ट्रैवलिंग के भी कपडे होते है.

आज हम आपको बताएँगे की आप सफर में किस तरह के कपडे पहनोगे तो आपको कम्फटेबल महसूस करेंगे. साथ ही आप स्टाइलिश भी लगेंगे. आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए की आओ चाहे बस में हो या फिर प्लेन में आप अपने अनुसार कम्फटेबल ड्रेस पहने. ताकि आपको सफर में किसी तरह की कोई परेशानी नहीं आये.

नॉर्मल टॉप :

यदि आप सफर कर रहे हो तो आपको ध्यान होना चाहिए की सफर में कभी भी क्रॉप टॉप नहीं पहनना चाहिए क्यों की वह बार बार ऊपर हो जाता है. जो आपको शर्मिंदा होने का कारण बन सकता यही इस लिए सफर में नॉर्मल टॉप का सिलेक्शन करे और ध्यान रहे की टॉप शॉट न होते हुये लॉन्ग टॉप का सिलेक्शन करे.

केप्री :

सफर के दौरान यदि आप वेस्टर्न ड्रेस पहनना छह रहे हे तो याद रहे आपको केप्री का सिलेक्शन करना चाहिए. क्यों की केप्री में आप बड़ी आसानी से सफर कर सकते है. यदि आपने ड्रेस पहनने का इरादा कर रहे है तो केंसल कर दे क्यों की ड्रेस में आपको कम्फटेबल महसूस नहीं होगा साथ ही आपको बस ट्रेन में चढ़ने उतरने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ेगा.

कैज़ुअल कपड़े :

सफर में कभी भी एम्बेलिश्ड कपडे नहीं पहनना चाहिए यह कपडे आपको सफर में काफी दिक्क़ते दे सकते है. सफर में एम्बेलिश्ड की जगह आप कैज़ुअल कपडे पहने. ताकि आपको किसी भी तरह से कोई परेशानी नहीं आये.

फ्लैट्स फुटवेयर :

इसमें दोहराय नहीं है की आपको हिल्स वाली सेंडल काफी आकर्षक लुक देती यही लेकिन आपको ध्यान होना चाहिए की हिल्स की सेंडल अधिक देर तक पहनने से आपको परेशानी हो सकती है. साथ ही आपको सफर में क्लम्फटेबल महसूस नहीं होगा इस लिए सफर में फ्लैट चप्पल पहनना ठीक होता है.

लैगिंग्स :

सफर यदि आपका ज्यादा बड़ा है तो आपको ध्यान होना आवश्यक है की कभी भी सफर में जंप सूट न पहने . जंप सूट में यदि आपको वॉशरूम जाने में सबसे ज्यादा परेशानी आएगी क्यों की इसे खोलने के लिए पूरी ड्रेस निकलना पड़ता है. जंप सूट की जगह आपको लैगिंग्स और लॉन्ग टॉप का सिलेक्शन करना आवश्यक है.

डार्क कलर :

अधिकतर व्यक्तियों को डार्क कलर पसंद होता है लेकिन सफर में डार्क कलर बहुत जल्द खराब होता है. इसलिए सफर में डार्क कलर न पहने.

पोनी या जूड़ा :

सफर में बाल खुले रखना आपको कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है. खुल्ले बाल रखने से सफर में आपको परेशानी के साथ ही बाल खराब होने का डर बना रहता है. इसलिए बालो का जुड़ा बना कर सफर करना चाहिए.

सलवार और कुर्ता :

यदि टर्न में आपकी सीट ऊपर होगी तो आप साड़ी का सिलेक्शन नहीं करना चहिये. क्यों की साड़ी में आपको चढ़ने उतरने में काफी परेशानी हो सकती है. इसलिए आपको लूज़ सलवार और कुर्ता पहनना चाहिए.

क्या आरक्षण के लिए आन्दोलन सही है,क्या पाटीदारो और गुर्जरो का आरक्षण मांगना सही है!

गुजरात के पाटीदार -:

पाटीदार समाज शुरुवात से ही एक संपन्न समाज रहा है। सरदार वल्लभ भाई पटेल इसी समाज से थे ,जो भारत के पहले गृहमंत्री थे।  माननीय केशव भाई पटेल भी इसी समाज से थे।  सिनेमा जगत में अमीषा पटेल,खेल क्षेत्र में अक्षर पटेल,पार्थिव पटेल आदि ने इस समाज का नाम किया है। तत्कालीन  केंद्रीय राज्यमन्त्री रामेश्वर रुपाला,धर्मेन्द्र प्रधान पाटीदार समाज के  है।  RBI गवर्नर उर्जित पटेल भी पाटीदार समाज से है।

राजनीति में भी पाटीदार समाज की अच्छी पेठ है! देश के 29 राज्यों में से 2 राज्यों के मुख्यमंत्री पाटीदार है। कुल 117 सांसद पाटीदार समाज के हैं। गुजरात  में  6 सांसद पाटीदार समाज के है। केंद्र सरकार में 3 मन्त्री पाटीदार है।

पाटीदारों की सम्पति भी कुछ कम नहीं है ! गुजरात के लगभग चार हजार उद्योगों में से लगभग दो हजार  उद्योग पाटीदारों के  है। गुजरात की 1.50 करोड़ पाटीदार जनसंख्या में से 70 लाख  पाटीदार करोड़पति है। अतः पाटीदार समाज एक सुसम्पन्न समाज है। जब पाटीदार समाज इतना संपन्न है , और ये सम्पन्नता उन्हें विरासत में ही मिली है , तो फिर क्या हार्दिक पटेल का आन्दोलन करना सही है आप ही जवाब दे !

हरियाणा के जाट -:

जाट समाज एक ऐसा समाज है , जो हरियाणा में कुल जनसंख्या का लगभग ३० प्रतिशत है ! जाट हरियाणा के सबसे संपन्न लोगो में आते है ! जो हर क्षेत्र में आगे खेल कूद में आगे , पढाई में आगे , खेती में आगे , सम्पन्नता में आगे , जब जाट इतने संपन्न है , तो क्या उनकी आरक्षण की मांग जायज है आप ही फैसला करे ! की आज जो आन्दोलनों के बहाने देश की संपत्ति और जन हानि हो रही है क्या वो सही है !

मेरा ये लेख किसी भी समाज की भावनाओ को ठेश पहुचाने के लिए नहीं है , बल्कि इसलिए के हम खुद सोचे के हम देश को बदल रहे है के अपने आप को , पड़ने के लिए  धन्यवाद !

आजमाए यह ट्रिक और दे सबको धोखा

यूजर अब बड़ी आसनी से अपने मेसेज पर किसी का भी नाम दिखा कर अपन दोस्तों के साथ मस्ती कर सकते है. कई बार दोस्तों से मस्ती करते समय हम सोचते है की इन्हे परेशान किया जाये लेकिन नाम हमारा नहीं बल्कि किसी दूसरे का नाम आये इसके लिए आपको अब ज्यादा कुछ करने की आवश्यकता नहीं है इसके लिए आपको एक एप डाऊनलोड करना होगा जिसकी सहायता से आप किसी के भी मजे ले सकते है.

फोन के इनबॉक्स, आउटबॉक्स, सेंड बोक्स में अब आप किसी का भी नाम दिखा सकते है जिसका आप सिलेक्शन करेंगे इनबॉक्स में आपके द्वारा सिलेक्ट किये गए यूजर का नाम दिखेगा. साथ ही आप फेल्ड और ड्राफ्ट बॉक्स में भी किसी का भी नाम दिखा सकते है.
सबसे पहले अपने फोन में गूगल प्ले स्टोर से Fake Text message को डाउनलोड करे. डाउनलोड करने पर आपके सामने एक विंडो ओपन होगी जिसमे नंबर के अनुसार आपके मेसेज दिखेंगे, वहा पर आप इनबॉक्स, आउटबॉक्स, सेंड बोक्स के अनुसार समय और तारिक का सिलेक्शन कर सकते है.

साथ ही आपको मेसेज में किसका नाम दिखाना है वह भी सिलेक्ट करे. सिलेक्ट करते ही अब इनबॉक्स में मेसेज के सामने उस व्यक्ति का नाम दिखेगा जिसे आपने सिलेक्ट किया है.

जरा प्रेम के इस प्रदर्शन को देखिए दिल्ली मेट्रो में फिल्माया अश्लीलता की हदे पार करता ये वीडियो

प्यार का प्रदर्शन करना कोई बुरी बात नहीं लेकिन प्यार का गलत तरीके से पब्लिक प्लेस में प्रदर्शन करना कहा की बात है. आये दिन दिल्ली मेट्रो ट्रेन में इस तरह की घटनाये सामने आती है. जिन पर काबू कर पाना शायद मुश्किल सा लग रहा है. यदि आप किसी से प्यार करते है तो इसका यह मतलब नहीं की आप उसका खुल्ले आम प्रदर्शन करे.

दिल्ली की मेट्रो ट्रेन में एक प्रेमी जोड़े ने मर्यादा की सभी हदे पार कर दी जब उन्होंने मेट्रो में सब के सामने अश्लीलता स