Old India, Story

September 23, 2017

चलते है बचपन की यादगार यादों मे…

Tags: , , , , , , , , , , ,

बचपन को व्यक्ति अपने अंतिम दिनों तक भूल नहीं सकता। दोस्तों के साथ वह मौज मस्ती, स्कूल न जाने के वह अजीबो गरीब बहाने, नदी में लम्भी छलांग लगाना, खेतो में जा कर मुगफली खाना शायद ही ऐसा कोई व्यक्ति होगा जो बचपन की उन यादो को अपने दिल से निकाल सकता है।

आज का युग बदलाव का दौर है। इस दौर में हर चीज बदल गई है। वीडियो गेम की जगह मोबाईल ने ले ली है, टीवी की जगह एलइडी ने ले लिया है। आज के दौर में वह मौज मस्ती कहा जो  90 के दशक में थी। लेकिन अब तो बच्चो को इंटरनेट से ही फुर्सत नहीं मिलती तो जिंदगी में मौज मस्ती कहा से करे। जिनका जन्म 90 के दशक में या उसके आस पास हुआ होगा उन्होंने इन चीजो का खूब आनंद लिया होगा।  आज हम आपको उन दिनों की याद दिलाते है जो बचपन में हमने की है।  जिसे हम कभी भी भूल नहीं सकते। है

1.जंगल में इस तरह की खोज करना

wonderful-memories-childhood (2)

 2. पापा से मेला देखने जाने की ज़िद 

wonderful-memories-childhood (3)

 3. सभी सिक्को को इकठ्ठा कर जो ख़ुशी मिलती थी, आज हजार रूपये होने पर भी नहीं मिलती 

wonderful-memories-childhood

4. आज के बच्चे इस रिश्ते का कभी पता नहीं लगा पायेगे 

wonderful memories of childhood 4

5.जिस बच्चे के पास यह होता था तो सब बच्चे उसे राजा कहते थे

wonderful memories of childhood 56. दोस्तों से अक्षर शर्त लगाना सबसे बेहतर कौन की? 

wonderful memories of childhood 67. मारुति 800 को पाना मतलब लक्जरी कार पाने जैसा होता था 

Suzuki_Maruti_800_8. जिस व्यक्ति के पास यह मोबाईल होता था उसे समृद्ध व्यक्ति माना जाता था

wonderful-memories-childhood (4)

9.क्या होती है ? टेंशंन नहीं पता था :-

wonderful memories of childhood 910. रविवार को जल्दी उठ कर दोस्तों के साथ दूरदर्शन पर  मोगली, रंगोली, महाभारत देखना :- 

wonderful memories of childhood 10

11. विध्या के लिए किताबो में फूल पत्ती रखना :- 

wonderful memories of childhood 1112.हर रात को बेसब्री से दूरदर्शन पर विक्रम बेताल का इंतजार करना :- 

wonderful memories of childhood 1213. आसमान में उड़ते हुए प्लेन को निशान बनाना  :- 

wonderful memories of childhood 13

 

14.शनिवार की जगह सनडे को करना पढ़ा था शक्तिमान 

Shaktimaan15.रामायण के महाभारत आते ही सड़के सुनसान हो जाना 

ramayanमहाभारत

mahabharata16. ओर वो हमारा ब्लैक एंड व्हाइट टीवी जिसमे रोज़ मच्छर आ जाते थे.

black and white tv17. जब भूख लगे तो पारले जी है न 

Parle G Biscuits18. स्कूल के बैग मे चाचा चोधरी की कॉमिक बूक 

Chacha-Chaudhary